केंद्र सरकार ने आधार कार्ड इस्‍तेमाल में किया बड़ा बदलाव

0
58

नई दिल्ली :आधार कार्ड की सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवालों के चलते अब इसमें कुछ बदलाव किए जा रहे हैं. आधार कार्ड और इसके उपयोग को लेकर ढांचागत बदलाव होंगे. इसके तहत वर्चुअल आईडी की शुरुआत की जाएगी. अब सुविधाओं का लाभ लेने के लिए आधार नंबर देना अनिवार्य नहीं होगा. इसके बजाय क्रिप्टिक बारकोड का उपयोग होगा जिससे पहचान संख्‍या सुरक्षित रहेगी.

यूआईडीएआई के मुताबिक यह सीमित केवाईसी होगी. इससे संबंध‍ित एजेंसियों को भी आधार डिटेल की एक्सेस नहीं होगी. ये एजेंसियां भी सिर्फ वर्चुअल आईडी के आधार पर सब काम निपटा सकेंगी. यूआईडीएआई ने वर्चुअल आईडी (VID) की जो व्यवस्था लाई है, इसके तहत यूजर जितनी बार चाहे उतनी बार वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेगा. यह आईडी सिर्फ कुछ समय के लिए ही वैलिड रहेगी.इसके साथ ही यूआईडीएआई ये सुविधा भी देगा कि आप खुद अपना वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकें. इस तरह आप अपनी मर्जी का एक नंबर चुनकर सामने वाली एजेंसी को सौंप सकते हैं. इससे न सिर्फ आपकी आधार डिटेल सुरक्ष‍ित रहेगी, बल्क‍ि आप अपने मोबाइल नंबर की तरह इस आईडी को भी आसानी से याद रख सकेंगे.

थिंकटैंक ने कहा कि आधार के सामने कई लघु और दीर्घकालिक चुनौतियां हैं। उसके मुताबिक डेटा की चोरी रोकना सबसे बड़ी चुनौती है। मुनाफाखोर व्यवसाय जगत इस डेटा तक अपनी पहुंच बनाने की कोशिश कर सकता है। रिसर्च नोट में कहा गया है कि आज का दौर व्यवसायों के बीच कड़ी प्रतिद्वंद्विता का है जिसमें नैतिक सीमाओं का तेजी से उल्लंघन हो रहा है। रिसर्च नोट में कहा गया है कि आधार डेटा के संभावित व्यवसायिक दुरुपयोग से बड़ी चिंता इसके आसानी से लीक होने की है। नोट के मुताबिक आधार डेटा पूरी तरह सुरक्षित नहीं है और साइबर क्रिमिनल इसमें सेंध लगा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here