भाजपा को खुश करने के लिए किया हुआ ट्वीट अक्षय कुमार ने डिलीट किया

0
500

नई दिल्ली : पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम पर चल रही लड़ाई अब सड़क से उठकर सोशल मीडिया तक पहुंच गई है। दरअसल, BJP ने ट्विटर पर पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम का कारण समझाने की कोशिश की है। इसके लिए BJP ने एक इंफोग्राफिक पोस्ट किया है जिसमें बताया गया है कि अगर पेट्रोल-डीजल के दामों के आधार पर आंकड़ों पर ध्यान दिया जाए तो NDA सरकार ने पिछली UPA सरकार से बेहतर काम किया है।इस ग्राफ के बाद से भाजपा की खूब खिंचाई हो रही है ,लेकिन इस में अब अक्षय कुमार का भी नाम जुड़ गया है। अक्षय पर बात करने से पहले यह समझिये के तेल का खेल है क्या।

भारत में अंतरराष्ट्रीय मूल्यों के आधार पर इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम जैसी तेल विपणन कंपनियों द्वारा पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बदलाव किया जाता है। इसलिए जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने से भारत में भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ती हैं। इसी तरह अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल की कीमतें गिरती हैं, तो यहां भी कीमतों में गिरावट देखने को मिलती है। आइये जानते हैं वे कौन से फैक्टर हैं जो पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर प्रभाव डालते हैं।सबसे पहले खाड़ी या दूसरे देशों से तेल खरीदते हैं, फिर उसमें ट्रांसपोर्ट खर्च जोड़ते हैं। क्रूड आयल यानी कच्चे तेल को रिफाइन करने का व्यय भी जोड़ते हैं।

केंद्र की एक्साइज ड्यूटी और डीलर का कमीशन जुड़ता है। राज्य वैट लगाते हैं और इस तरह आम ग्राहक के लिए कीमत तय होती है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत में बदलाव घरेलू बाजार में कच्चे तेल की कीमत को सीधे प्रभावित करता है। भारतीय घरेलू बाजार में पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि के लिए जिम्मेदार यह सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से है। अंतरराष्ट्रीय मांग में वृद्धि, कम उत्पादन दर और कच्चे तेल के उत्पादक देशों में किसी तरह की राजनीतिक हलचल पेट्रोल की कीमत को गंभीर रूप से प्रभावित करती है।

वहीँ दूसरी तरफ तेल की महंगाई को लेकर ट्विटर पर घमासान जारी है। इसी घमासान को देखते हुए एक्टर अक्षय कुमार ने अपना पुराना ट्वीट बहुत तेज़ी के साथ डिलीट कर दिया है ,दरअसल अक्षय कुमार ने मनमोहन सरकार में जब तेल की क़ीमत बढ़ी थी तब भाजपा का साथ देते हुए सरकार पर हमला किया था और लिखा था की अब समय आ गया है की हमें अपनी साइकल साफ़ कर लेनी चाहिए चूँकि तेल की क़ीमत बढ़ती चली जा रही है।

अक्षय ने आज जब मोदी सरकार में तेल 80 रूपए के पार गई है तब एक भी ट्वीट नहीं कर रहे हैं बल्कि खिंचाई से बचने के लिए उन्होंने अपना पुराना ट्वीट जल्दी से डिलीट कर दिया है। बता दें की उस समय तेल की क़ीमत के खिलाफ अक्षय के साथ साथ अनुपम खेर अमिताभ ,अशोक पंडित ने भी आवाज उठाई थी लेकिन आज कोई भी एक शब्द बोलने को तैयार नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here