देश के राजधानी में दरिंदगी की नई कहानी,1 महीने तक सूटकेस में रखा शव

0
30

नई दिल्ली :दिल्ली के स्वरूप नगर से एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है। एक 7 साल के मासूम को दरिंदगी से मौत के घाट उतार दिया गया। घटना का खुलासा तब हुआ जब मासूम का शव मिला। मासूम की हत्या का आरोप उसके घर में रह रहे किराएदार पर लगा है। पुलिस आरोपी को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। हत्या कैसे की गई, ये पोस्टमार्टम के बाद ही पता चल पाएगा।हत्याकांड को अंजाम देने के बाद उसने शव को पॉलीथिन में पैक करके सूटकेस में रख दिया. कमरे में कुछ मरे हुए चूहे भी रख दिए. पड़ोसियों को जब बदबू आती थी तो कहता था कि घर के अंदर चूहा मरा हुआ है. बदबू कम करने के लिए उसने कमरे में बहुत सारे परफ्यूम रखे हुए थे, जो समय-समय पर डेड बॉडी पर छिड़कता रहता था.अपने परिवार और इलाके के लोगों के बीच अपना रसूख कायम रखने के लिए अवधेश ने बताया था कि वह सीबीआई में काम करता है. सबके बच्चों की नौकरी लगवा सकता है. इतना ही यूपीएससी अटैम्प्ट कर चुका है. अवधेश पहले बच्चे के घर में ही रहता था, लेकिन बच्चे के पिता को लगा की अवधेश को ज्यादा वैल्यू दी जा रही है.
डीसीपी (नॉर्थ-वेस्ट) असलम खान के मुताबिक, आरोपी अवधेश शाक्य (27 साल) बच्चे (आशीष) के घर में करीब 8 साल किराए पर रहा, लेकिन उसके पार्टी करने पर मकान मालिक को एतराज था। इसके बाद उसने पड़ोस के दूसरे मकान में कमरा किराए पर ले लिया।6 जनवरी को बच्चा घर के पास से अचानक गायब हो गया। पेरेंट्स ने दिल्ली पुलिस के पास गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। इस दौरान अवधेश भी नाटक करते हुए कई बार उनके साथ थाने गया। जांच के दौरान फैमिली ने अवधेश पर भी शक जताया, लेकिन पूछताछ में पुलिस को ठोस सबूत नहीं मिले।

बच्चे की मां ने बताया कि बेटा अवधेश को अंकल बुलाता था। वह उसे अक्सर छोले-कुलचे खिलाता और नई साइकिल दिलाने का भी वादा किया था। 7 जनवरी को बेटे ने चाची के घर जाने की बात कही थी, लेकिन फिर लौटकर नहीं आया। बता दें कि वेस्ट यूपी से ताल्लुक रखने वाला आरोपी सिविल सर्विजेस की तैयारी कर रहा है। वह तीन बार एग्जाम दे चुका है। दो बार प्री-एग्जाम क्लियर भी कर लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here