सोनिया गांधी के नए दावे से एनडीए में हड़कंप

0
41

नई दिल्ली :कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है और कहा है कि सरकार विपक्ष को संसद में बोलने नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकार अहम मुद्दे पर चर्चा से पीछे भाग रही है। सोनिया ने आरोप लगाया कि जब पीएबी फ्रॉड पर संसद में चर्चा की मांग की गई तो सरकार ने इससे पीछे हट गई। उन्होंने कहा कि जब विपक्षी संसद में नहीं बोलेंगे तो फिर संसद क्यों है? क्यों ना संसद को बंद कर दिया जाय? इंडिया टुडे कॉनक्लेव के 17वें संस्करण में सोनिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में कांग्रेस के खिलाफ प्रोपेगेंडा फैलाकर और भ्रामक प्रचार कर सत्ता पाई है।

उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी की मार्केटिंग पॉलिसी के सामने कांग्रेस मात खा गई। हालांकि, 10 साल के यूपीए शासनकाल के बाद एंडी इनकमबेंसी फैक्टर को उन्होंने खारिज नहीं किया।यूपीए अध्यक्ष ने राजनीति हलातों पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि यह आज एक अलग दौर से गुजर रही है।लोकतंत्र में खुली बहस की छूट होनी चाहिए लेकिन आज अभिव्यक्ति की आजादी पर खतरा मंडरा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्ता पक्ष विरोध की आवाजों को दबाने की कोशिश कर रहा है और संविधान के सिद्धांतों पर प्रहार किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने मजाकिया लहजे में कहा कि मैंने पूरी रामायण पढ़ दी है और अब आप पूछ रहे हैं कि सीता कौन थीं?

उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री से कार्यक्रमों में मिलती रहती हैं लेकिन उन्हें व्यक्तिगत रूप से नहीं जानती हैं। प्रियंका गांधी के राजनीति में आने को लेकर सोनिया ने कहा कि वह अपना फैसला खुद लेंगी। उन्होंने कहा कि मैं कभी नहीं चाहती थी कि राजीव गांधी राजनीति में आएं लेकिन उन्हें इंदिरा जी की हत्या के बाद इसमें आना पड़ा। मैं खुद में राजनीति में नहीं आना चाहती थी लेकिन जब मैंने पार्टी ज्वाइन की उस समय पार्टी मुश्किल में थी और मुझे भी राजनीति में आना पड़ा।मनमोहन सिंह को पीएम बनाने के सावाल पर उन्होंने कहा कि मुझे पता था कि मनमोहन सिंह मुझसे बेहतर होंगे क्योंकि मैं अपनी सीमाओं के बारे में जानतीं थी. यही वजह रही कि हमने मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनाया.

सोनिया ने कहा कि कांग्रेस को संगठन के स्तर पर लोगों से जुड़ने का नया तरीका विकसित करने की आवश्‍यकता है.कॉन्कलेव में सोनिया ने कहा कि इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सब कुछ बदला, मैं नहीं चाहती थी कि राजीव गांधी राजनीति में कदम रखें, मैं भी राजनीति में आने के पक्ष में नहीं थी, लेकिन राजनीति में नहीं आती तो लोग मुझे कायर कहते, कांग्रेस मुश्किल में थी तो फैसला बदला, फिर मैं राजनीति में आयी.

सोनिया ने कहा कि 2019 के चुनाव में भाजपा का जुमला चुनावी मुद्दा होगा, भाजपा सरकार जनता के उम्मीदों पर खरी नहीं सकी है. आगे उन्होंने कहा कि राजस्थान और मध्यप्रदेश के उपचुनावों में कांग्रेस ने अच्छा प्रदर्शन किया है, आगे भी अच्छे नतीजे देखने का मिलेंगे और कर्नाटक में भी दोबारा कांग्रेस की सरकार बनने की उम्मीद हमें है.उन्होंने कहा कि विरोधियों को भाजपा मुकदमों में फंसाकर कमजोर करने का काम कर रही है. मुझे खोखलों नारों और जुमलों पर विश्वास नहीं, हम भाजपा को दोबारा सत्ता में नहीं आने देंगे, 2019 में कांग्रेस सत्ता में आएगी, मुझे देश की जनता पर पूरा भरोसा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here