हज पर जाने वाली सब से छोटी बच्ची को पहचानिए और दुआएं दीजिये

0
172

देहरादून: उत्तराखंड के देहरादून की हडिया मरयम सब से कम उम्र में सफर हज पर जाएँगी हडिया सिर्फ डेढ़ साल की उम्र में अपने माँ घर वालों के साथ सफर हज पर जाएँगी। वैसे तो हिन्दोस्तान से हर साल बड़ी तादाद में बच्चे अपने माँ बाप के साथ हज पर जाते हैं मगर इस बार उत्तराखंड के सलीम अहमद की डेढ़ साल की बेटी हडिया मरयम का नाम भी लाटरी में शामिल किया गया था जो की निकल आया है,आगे की खानापूरी भी पूरी कर ली गई है। अब हडिया पूरी तरह हज पर जाने के लिए तैयार हैं। उत्तराखंड हज कमिटी के चेयरमैन राव शेर मोहम्मद्द ने ख़ुशी का इज़हार करते हुए कहा की कमेटी की तरफ से हडिया को पूरी सहूलतें फ़राहम की जा रही हैं , हज पर जाने वाले तमाम लोग अपनी अपनी तैयारियों में मसरूफ हैं ,और हर तरह की खानापूरी जल्द ही पूरी कर रहे हैं.

इस दरमियान एक डेढ़ साल की बच्ची हडिया भी हज पर जाने के लिए पूरी तरह से तैयार है, बताया जा रहा है कि इस बच्ची का नाम हडिया मरयम है, और यह उत्तराखंड से है, इस साल उत्तराखंड से लगभग १३०० लोग हज पर जा रहे हैं, उनमे हडिया सब से कम उम्र की है। पिछले जुमेरात को स्वस्थ कैंप में डॉक्टरों ने उसे टीका भी लगाया, वो अपने पिता सलीम अहमद और अपनी माँ के साथ हज पर जा रही है, सलीम अहमद का कहना है की उन्होंने हडिया के नाम की लाटरी अपने नाम के साथ डाली थी, जिस में हडिया का भी नाम निकला। गोरखपुर गांव की रहने वाली बच्ची हडिया मरयम के माँ बाप इस बात से बहुत खुश हैं, और उन्हें इस बात की भी ख़ुशी है कि हडिया इस बार हज पे जाने वाली सब से कम उम्र की बच्ची है। ग़ौरतलब बात यह है कि हर साल कई बच्चे अपने माँ बाप के साथ हज पर जाते हैं, दो साल से कम उम्र के बच्चों को हवाईजहाज़ कम्पनियों से बहुत सारी सहूलियतें दी जाती हैं, क्युकी दो साल के बच्चे अपने माँ बाप के साथ ही हज पर जाते हैं इस लिए उनका सिर्फ हवाई खर्च ही लगता है , बाक़ी के चार्जेज उन से नहीं लिए जाते हैं, हवाई किराया में भी बच्चो का कुल किराया का मात्र १० प्रतिशत ही लिया जाता है।

बता दें की जिलहिज के महीना के मक्का के अंदर लाखों तीर्थयात्रियों के एकत्रित होते हैं। जिसमें वे सुन्दर एवं अद्वितीय उपासना हज के संसकार पूरे करते हैं। इस समय लाखों की संख्या में मुसलमान ईश्वरीय संदेश की भूमि मक्के में एकत्रित हो रहे हैं। विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से लोग गुटों और जत्थों में ईश्वर के घर की ओर जा रहे हैं और एकेश्वरवाद के ध्वज की छाया में वे एक बहुत व्यापक एकेश्वरवादी आयोजन का प्रदर्शन करेंगे। हज में लोगों की भव्य उपस्थिति, हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की प्रार्थना के स्वीकार होने का परिणाम है जब हज़रत इब्राहमी अपने बेटे इस्माईल और अपनी पत्नी हाजरा को इस पवित्र भूमि पर लाए और उन्होंने ईश्वर से कहाः प्रभुवर! मैंने अपनी संतान को इस बंजर भूमि में तेरे सम्मानीय घर के निकट बसा दिया है। प्रभुवर! ऐसा मैंने इसलिए किया ताकि वे नमाज़ स्थापित करें तो कुछ लोगों के ह्रदय इनकी ओर झुका दे और विभिन्न प्रकार के फलों से इन्हें आजीविका दे, कदाचित ये तेरे प्रति कृतज्ञ रह सकें।

शताब्दियों से लोग ईश्वर के घर के दर्शन के उद्देश्य से पवित्र नगर मक्का जाते हैं ताकि हज जैसी पवित्र उपासना के लाभों से लाभान्वित हों तथा एकेश्वरवाद का अनुभव करें और एकेश्वरवाद के इतिहास को एक बार निकट से देखें। यह महान आयोजन एवं महारैली स्वयं रहस्य की गाथा कहती है जिसके हर संस्कार में रहस्य और पाठ निहित हैं। हज का महत्वपूर्ण पाठ, ईश्वर के सम्मुख अपनी दासता को स्वीकार करना है कि जो हज के समस्त संस्कारों में स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। इन पवित्र एवं महत्वपूर्ण दिनों में हम आपको हज के संस्कारों के रहस्यों से अवगत करवाना चाहते हैं।

मनुष्य की प्रवृत्ति से इस्लाम की शिक्षाओं का समन्वय, उन विशेषताओं में से है जो सत्य और पवित्र विचारों की ओर झुकाव का कारण है। यही विशिष्टता, इस्लाम के विश्वव्यापी तथा अमर होने का चिन्ह है। इस आधार पर ईश्वर ने इस्लाम के नियमों को समस्त कालों के लिए मनुष्य की प्रवृत्ति से समनवित किया है। हज सहित इस्लाम की समस्त उपासनाएं, हर काल की परिस्थितियों और हर काल में मनुष्य की शारीरिक, आध्यात्मिक, व्यक्तिगत तथा समाजी आवश्यकताओं के बावजूद उसकी आवश्यकताओं की पूर्ति करती हैं। इस्लाम की हर उपासना का कोई न कोई रहस्य है और इसके मीठे एवं मूल्यवान फलों की प्राप्ति, इन रहस्यों की उचित पहचान के अतिरिक्त किसी अन्य मार्ग से कदापि संभव नहीं है।

हज भी इसी प्रकार की एक उपासना है। ईश्वर के घर के दर्शन करने के उद्देश्य से विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से लोग हर प्रकार की समस्याएं सहन करते हुए और बहुत अधिक धन ख़र्च करके ईश्वरीय संदेश की धरती मक्का जाते हैं तथा “मीक़ात” नामक स्थान पर उपस्थित होकर अपने साधारण वस्त्रों को उतार देते हैं और “एहराम” नामक हज के विशेष कपड़े पहनकर लब्बैक कहते हुए मोहरिम होते हैं और फिर वे मक्का जाते हैं। उसके पश्चात वे एकसाथ हज करते हैं। पवित्र नगर मक्का पहुंचकर वे सफ़ा और मरवा नामक स्थान पर उपासना करते हैं। उसके पश्चात अपने कुछ बाल या नाख़ून कटवाते हैं। इसके बाद वे अरफ़ात नामक चटियल मैदान जाते हैं। आधे दिन तक वे वहीं पर रहते हैं जिसके बाद हज करने वाले वादिये मशअरूल हराम की ओर जाते हैं। वहां पर वे रात गुज़ारते हैं और फिर सूर्योदय के साथ ही मिना कूच करते हैं। मिना में विशेष प्रकार की उपासना के बाद वापस लौटते हैं उसके पश्चात काबे की परिक्रमा करते हैं। फिर सफ़ा और मरवा जाते हैं और उसके बाद तवाफ़े नेसा करने के बाद हज के संस्कार समाप्त हो जाते हैं। इस प्रकार हाजी, ईश्वरीय प्रसन्नता की प्राप्ति की ख़ुशी के साथ अपने-अपने घरों को वापस लौट जाते हैं।

हज जैसी उपासना, जिसमें उपस्थित होने का अवसर समान्यतः जीवन में एक बार ही प्राप्त होता है, क्या केवल विदित संस्कारों तक ही सीमित है जिसे पूरा करने के पश्चात हाजी बिना किसी परिवर्तन के अपने देश वापस आ जाए? नहीं एसा बिल्कुल नहीं है। हज के संस्कारों में बहुत से रहस्य छिपे हुए हैं। इस महान उपासना में निहित रहस्यों की ओर कोई ध्यान दिये बिना यदि कोई हज के लिए किये जाने वाले संस्कारों की ओर देखेगा तो हो सकता है कि उसके मन में यह विचार आए कि इतनी कठिनाइयां सहन करना और धन ख़र्च करने का क्या कारण है और इन कार्यों का उद्देश्य क्या है?

पैग़म्बरे इस्लाम (स) के पौत्र इमाम जाफ़र सादिक़ अलैहिस्सलाम के काल में इब्ने अबिल औजा नामक एक बहुत ही दुस्साहसी अनेकेश्वरवादी, एक दिन इमाम सादिक़ (अ) की सेवा में आकर कहने लगा कि कबतक आप इस पत्थर की शरण लेते रहेंगे और कबतक ईंट तथा पत्थर से बने इस घर की उपासना करते रहेंगे और कबतक उसकी परिक्रमा करते रहेंगे? इब्ने अबिल औजा की इस बात का उत्तर देते हुए इमाम जाफ़र सादिक़ अ. ने काबे की परिक्रमण के कुछ रहस्यों की ओर संकेत करते हुए कहा कि यह वह घर है जिसके माध्यम से ईश्वर ने अपने बंदों को उपासना के लिए प्रेरित किया है ताकि इस स्थान पर पहुंचने पर वह उनकी उपासना की परीक्षा ले। इसी उद्देश्य से उसने अपने बंदों को अपने इस घर के दर्शन और उसके प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए प्रेरित किया और इस घर को नमाज़ियों का क़िब्ला निर्धारित किया। पवित्र काबा, ईश्वर की प्रसन्नता की प्राप्ति का केन्द्र और उससे पश्चाताप का मार्ग है अतः वह जिसके आदेशों का पालन किया जाए और जिसके द्वारा मना किये गए कामों से रूका जाए वह ईश्वर ही है जिसने हमारी सृष्टि की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here