मायावती ने होली के अवसर पर दिया यह संदेश

0
81

लखनऊ :होली का त्योहार देश में पुरे प्रेम और सदभावना से मानाने और एक दूसरे से प्यार बांटने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज अपना संदेश भेज दिया। उन्होंने आज यहाँ जारी एक शुभकामना में कहा कि रंगों और उमंगों के त्योहार होली को सादगी, आपसी भाईचारे एवं साम्प्रदायिक सौहार्द तथा सछ्वावना के साथ मनाकर लोगों को होली की खुशियों को दोगुना करने का प्रयास करना चाहिये।उन्होंने कहा कि इस मौके पर कुदरत से भी प्रार्थना है कि वह गरीबों, बेरोजगारों व अन्य अति-जरुरतमन्दों के जीवन में खुशियां लाकर उनके जीवन में मुस्कान लाये।

साथ ही केन्द्र व राज्य की भाजपा सरकार को भी इस सम्बन्ध में सही व ईमानदार प्रयास करने की जरुरत है। बतादें की विक्रम संवंत के अनुसार फाल्गुन माह की पूर्णिमा तिथि के दिन होली का पर्व मनाया जाता है। होली सिर्फ रंगों ही नहीं एकता, सद्भावना और प्रेम का प्रतीक मानी जाती है। इस दिन कई लोग व्रत करके भगवान के प्रति अपनी आस्था मजबूत करते हैं। मान्यता है कि इस दिन व्रत करने वालों की भगवान हमेशा भक्त प्रह्लाद की तरह रक्षा करते हैं।

इसी के साथ वसंत के इस पर्व के बाद नए मौसम की शुरुआत होती है जिसमें खेत-खलिहान नई फसल से लहराते हैं। व्रत करने वाले नई फसल के लिए भगवान से प्रार्थना करते हैं। इस दिन होलिका में कच्ची बालियां भूनी जाती हैं और प्रसाद के रुप में ग्रहण की जाती हैं। होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक मानी जाती है।होली पूजन से हर प्रकार के डर पर विजय प्राप्त की जा सकती है। इस पूजन से परिवार में सुख-शांति और समृद्धि की प्राप्ति होती है। मां अपने पुत्र को बुरी शक्तियों से बचाने के लिए मंगल कामना के लिए यह पूजा करती है। व्रत को होलिका दहन के बाद खोला जाता है। व्रत खोलने पर ईश्वर का ध्यान कर सुख-समृद्धि की कामना की जाती है। पूजा करते समय मुख को पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ रखा जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here