हिंदू समुदाय के खिलाफ हो गया बड़ा फैसला और चुप चाप देखते रह गए पीएम मोदी

0
129

कोलंबो :भारत के पड़ोसी देशों में पीएम मोदी और भाजपा का सब से प्रय पड़ोसी नेपाल और श्रीलंका है ,इस के पीछे सब से बड़ा राज यह है की यहाँ हिन्दू समुदाय के लोगों की संख्या सब से अधिक है। माना यह भी जा रहा है की वहां हिंदू रीती रिवाज को बहुत बढ़ावा मिलता है ,लेकिन अब एक ऐसी खबर आई है जिस से यह कहा जा सकता है की मोदी की दोस्ती काम न आई। दरअसल ऐसी खबर आई है की श्री लंका में हिंदू मंदिरों में पशुओं की बलि पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है। मंत्रिमंडल ने बुधवार को एक ऐसे प्रस्ताव को मंजूरी दी है जिसमें पूजा के प्राचीन तरीकों पर प्रतिबंध लगाए जाने के लिए कानून बनाने की बात कही गई है।

हिंदू समुदाय ने इस देश में इस अनुष्ठान को दंडनीय अपराध बनाए जाने का आह्वान किया था। सरकार के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि हिंदू धार्मिक मामलों के मंत्रालय ने इसका प्रस्ताव आगे बढ़ाया था और अधिकतर उदारवादी समूहों ने इसका समर्थन किया है.कुछ हिंदू अपने देवी-देवताओं को प्रसन्न करने के लिए मंदिरों में बकरा, भैंसा और मुर्गियों की बलि देते हैं.लेकिन श्रीलंका में बहुसंख्यक बौद्ध कई वर्षों से इसका विरोध कर रहे हैं. आलोचक इसे अमानवीय बताते हैं.हिंदुओं के अलावा मुसलमान भी अपने धार्मिक आयोजनों में पशुओं की बलि देते हैं.

पशुओं के अधिकारों के लिए काम करने वाले और बौद्ध समूह इससे नाराज़ होते हैं.सरकार के स्वामित्व वाले समाचार पत्र डेली न्यूज में हिंदू सांस्कृतिक मामलों के निदेशक उमा महेश्वरन के हवाले से बताया गया है कि इस कानून से हिंदू मंदिरों में बकरियों , पक्षियों और पशुओं की बलि पर प्रतिबंध लगेगा। उन्होंने बताया कि मंत्रिमंडल द्वारा प्रस्तावित मसौदा कानून को अंतिम सहमति के लिए कानूनी ड्राफ्टसमैन विभाग के पास भेजा जाएगा। इसके बाद इसे अटार्नी जनरल के विभाग के पास भेजा जायेगा और फिर यह राजपत्र में प्रकाशित होगा। अब देखना यह है की भारत के पीएम इस विषय पर श्रीलंका से कोई बात करती है या नहीं चूँकि यह हिन्दू समुदाय की धार्मिक भक्ति का अंग है जिसे अब खत्म किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here