राम मंदिर को लेकर मोदी-योगी पर लगा सब से बड़ा आरोप

0
117

वाराणसी :भाजपा पर यह इलज़ाम हमेशा से लगता रहा है की वह धर्म के नाम पर लोगों को लड़वाने की राजनीती करती है। आ तक तो अन्य सियासी पार्टी और कुछ लोग कहा करते थे ,लेकिन अब यही आरोप रामजन्म भूमि से जुड़े एक बड़े संत ने कहा जो यह साबित करता है की भाजपा पर लगने वाले इस आरोप में दम है। निर्मोही अखाड़ा आश्रम में रामजन्म भूमि न्यास के राष्ट्रीय प्रवक्ता सीताराम दास महाराज ने महंत परमहंस दास को अनशन स्थल से हिरासत में लिए जाने की पुलिसिया कार्रवाई का विरोध किया है।

गोवर्धन के निर्मोही अखाड़ा आश्रम में रामजन्म भूमि न्यास के राष्ट्रीय प्रवक्ता सीताराम दास महाराज ने महंत परमहंस दास को अनशन स्थल से हिरासत में लिए जाने की पुलिसिया कार्रवाई का विरोध किया है। पुलिसिया कार्रवाई को लेकर साधु सन्तों के साथ एक बैठक आहूत कर प्रधानमंत्री नरेंद्‌र मोदी और मुख्यमंत्री योगी पर जमकर निशाना साधा।निर्मोही अखाड़े के संतों ने परमहन्स दास को हिरासत में लिए जाने की कार्रवाई को कायराना कृत्य करार देते हुए मोदी योगी को राष्ट्र द्रोही बताया। बताते चलें कि राम मंदिर निर्माण को लेकर एक अक्टूबर को अयोध्या में अनशन कर रहे महंत परम् हंस दास महाराज की तबियत बिगड़ने लगी।

बीती रात्रि को पुलिस ने उन्हें अनसन स्थल से उठा लिया और उन्हें नजरबन्द कर दिया गया। पुलिस के इस कृत्य को लेकर सोमवार को गोवर्धन के निर्मोही आखाड़ा आश्रम में रामजन्म भूमि न्यास के राष्ट्रीय प्रवक्ता सीताराम दास के नेतृत्व में सन्त समाज की एक बैठक आयोजित कर मोदी व योगी के खिलाफ रोष व्याप्त किया।न्यास के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि राम मंदिर निर्माण को लेकर महंत परमहंस दास एक अक्टूबर से अयोध्या में अनशन कर रहे थे। पुलिस ने उन्हें कायराना अंदाज में गिरफ्तार कर नजरबंद कर दिया है। उनकी गिरफ्तारी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस कार्रवाई के लिए ¨हदूवादी संगठन व साधु-संत, योगी सरकार की भ‌र्त्सना कर रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि योगी संत नहीं हैं, भाजपा नेता हैं। भाजपा सरकार कभी राम मंदिर का निर्माण नहीं करा सकती। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि परमहंस दास को रिहा नहीं किया तो राम जन्मभूमि न्यास निर्मोही अखाड़ा परिषद उग्र आंदोलन करने पर बाध्य होगी। इस अवसर पर अखाड़े के संत एवं ¨हदूवादी संगठन के लोग उपस्थित रहे।बता दें की अयोध्या की तपस्वी छावनी के महंत स्वामी परमहंस दास ने अपना आमरण अनशन तोड़ दिया है। 1 अक्टूबर को राम मंदिर निर्माण की मांग को लेकर अयोध्या में उन्होंने अपना अनशन शुरू किया था।

मंगलवार दोपहर लखनऊ के संजय गांधी पीजीआई के निदेशक डॉ. राकेश कपूर ने जूस पिलाकर उनका अनशन तुड़वाया। बता दें कि महंत की हालत खराब होने पर पुलिस ने उन्हें अयोध्या में अनशन स्थल से उठाकर हिरासत में लिया था। बाद में उन्हें इलाज के लिए एसजीपीजीआई में ऐडमिट कराया गया था। पीजीआई प्रशासन के मुताबिक महंत को फिलहाल आईसीयू में ही रखा गया है। हालांकि उनकी हालत में सुधार है। संस्थान के डायरेक्टर राकेश कपूर के मुताबिक महंत को पूरी तरह ठीक होने में अभी कुछ दिन और लग सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here