राजनीती पार्टियों की कमाई में उछाल,जानिए कौन हुई कितनी मालामाल

0
14

नई दिल्ली: राजनीतिक दलों के पास पैसे की कोई कमी नहीं है फिर चाहे राष्ट्रीय दल हों या क्षेत्रीय पार्टियां. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के मुताबिक समाजवादी पार्टी की कुल संपत्ति की कीमत 635 करोड़ रुपये है जो कि किसी भी क्षेत्रीय पार्टी की तुलना में सबसे ज्यादा है. एडीआर ने ये आंकड़े 2011-12 और 2015-16 में इन दलों की ओर से चुनाव आयोग और इनकम टैक्स को दी गई जानकारी के आधार पर जुटाए हैं. रिपोर्ट की मुताबिक साल 2011-12 और 2015-16 में समाजवादी पार्टी की संपत्ति में 198 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक सपा के अलावा एआईएडीएमके, शिवसेना और आईएफबी ने ही अपनी संपत्ति में निरंतर बढ़ोत्तरी दिखाई है। रिपोर्ट के मुताबिक इन पांच सालों में एआईएडीएमके की संपत्ति करीब 155 फीसदी बढ़ी है। साल 2011-12 में एआईएडीएमके की कुल संपत्ति 88.21 करोड़ थी जो 2015-16 में बढ़कर 224.87 करोड़ हो गई। बता दें कि एआईएडीएमके तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी है और इस दौरान जयललिता मुख्यमंत्री और पार्टी प्रमुख भी थीं। एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक शिवसेना की संपत्ति पांच सालों में 92 फीसदी बढ़ी है। 2011-12 में 20.59 करोड़ की संपत्ति बढ़कर 2015-16 में 39.68 करोड़ हो गई।

एक नजर पार्टियों की बढ़ी संपत्ति पर
समाजवादी पार्टी
उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी (सपा) की संपत्ति में वित्तीय वर्ष 2011-12 से वर्ष 2015-16 के बीच 198 प्रतिशत बढ़ौत्तरी हुई।

शिवसेना
शिवसेना की संपत्ति 21 करोड़ से बढ़कर 39 करोड़ हो गई है जो करीब 92 प्रतिशत की वृद्धि है।

आम आदमी पार्टी
आम आदमी पार्टी का नवंबर 2012 में रजिस्ट्रेशन हुआ था। उस समय उनके पास करीब 1 करोड़ रुपए की परिसंपत्ति थी जोकि वित्तीय वर्ष 2015-16 में बढ़कर 3.7 करोड़ हो गई।

एआईएडीएमके
एआईएडीएमके की कुल संपत्ति में वर्ष 2011-12 से 2015-16 के बीच 155 प्रतिशत की वृद्धि हुई। एआईडीएमके की कुल संपत्ति 88 करोड़ से बढ़कर 225 करोड़ रुपए हो गई है।

-मध्यप्रदेश की कुल संपत्ति 213 करोड़ से बढ़कर 635 करोड़ हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here