महात्मा गांधी की हत्या का इलज़ाम RSS पर लगाना राहुल को महंगा पड़ गया

0
68

नई दिल्ली :राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) मानहानि के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर मानहानि का मुकदमा चलेगा। भिवंडी की अदालत ने उन्हें दोषी मानते हुए आरोप तय किए हैं। वहीं, राहुल गांधी ने कहा कि मैं दोषी नहीं हूं। मुझ पर लगे आरोप गलत हैं। अब इस मामले की अगली सुनवाई 10 अगस्त को होगी।बता दें कि मानहानि केस में मंगलवार को राहुल भिवंडी कोर्ट में पेश हुए। जहां उन्होंने बयान दर्ज कराते हुए अपनी सफाई में कहा कि मैं दोषी नहीं हूं। राहुल के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और अशोक गहलोत में अदालत में मौजूद थे। हालांकि अदालत ने राहुल पर आइपीसी की धारा 499 और 500 के तहत आरोप तय किए।राहुल भिवंडी में दंडाधिकारी की अदालत में पेश हुए। इस अदालत में आरएसएस के खिलाफ टिप्पणी करने के लिए उनके खिलाफ मानहानि का मामला दायर किया गया है।

राहुल गांधी ने छह मार्च, 2014 को एक चुनावी रैली में महात्मा गांधी की हत्या को आरएसएस से जोड़ा था। बता दें कि दो मई को कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष से 12 जून को हाजिर रहने को कहा था। उस दिन अदालत ने उनकी अर्जी पर सुनवाई की थी। कांग्रेस अध्यक्ष ने समरी ट्रायल की जगह दर्ज विस्तृत सुबूत मांगा था।भिवंडी की कोर्ट पर आरोप तय होने के बाद कोर्ट से बाहर निकलकर राहुल गांधी ने मीडिया से कहा, सबसे अमीर लोगों की सरकार चल रही है.

उन्‍होंने कहा कि हमारे जो हमारे युवा हैं उसके पास रोजगार नहीं है. काम की बात है रोजगार, किसानों और मंहागई की लेकिन इस बारे में मोदी सरकार चुप है. उन्‍होंने कहा कि तेल और मंहगाई बढ़ रही है लेकिन सरकार कुछ नहीं कह रही है और मेरे ऊपर लोग आरोप लगाते रहते हैं. राहुल ने संघ पर महात्मा गांधी की हत्या का आरोप लगाया था. राहुल ने साल 2014 में भिवंडी में एक भाषण के दौरान लगाया था आरोप. संघ के एक कार्यकर्ता ने राहुल पर केस ठोका था. राहुल गांधी मामला ख़त्म कराने सुप्रीम कोर्ट भी गए थे लेकिन कोर्ट में राहुल ने बयान पर खेद प्रकट करने से इनकार कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि खेद प्रकट नहीं करने पर सुनवाई का सामना करना पड़ेगा.

अदालत में पेशी के दौरान राहुल गांधी के लिए सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए गए थे। वहीं, शिकायतकर्ता राजेश कुंटे को पूरी तलाशी लेने के बाद अंदर जाने दिया गया। कुंटे ने पुलिस पर पक्षपात का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी और उनके साथियों को बिना तलाशी के अंदर जाने दिया गया जबकि वह आरोपी हैं। वहीं, शिकायतकर्ता होने के बावजूद मेरी तलाशी ली गई और उसके बाद कोर्ट के अंदर जाने की इजाजत दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here