हमने अपने पिता के हत्यारों को पूरी तरह माफ़ कर दिया:राहुल

0
33

सिंगापुरः कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बेटे राहुल गांधी ने कहा कि उन्होने और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने पिता के हत्यारों को माफ कर दिया है. उन्होंने कहा कि हमारे लिए ये चोट बहुत गहरी थी जो कई सालों तक दर्द देती रही. लेकिन हमने पूरी तरह से हत्यारों को माफ कर दिया है. राहुल गांधी ने ये बातें सिंगापुर में एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद कहीं.सिंगापुर पहुंचे राहुल गांधी ने एक कार्यक्रम में राहुल गांधी ने अपनी दादी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और अपने पिता राजीव गांधी की हत्या पर बोलते हुए कहा कि उन्हें एक पक्ष लेने की कीमत चुकानी पड़ी.

राहुल ने कहा, ‘ जब आप राजनीति में गलत ताकतों के से भिड़ जाते हैं. और आप सही बात के लिए पक्ष लेते हैं तो आप मरेंगे’न्यूज एजेंसी के मुताबिक राहुल ने कहा, “जब ये घटनाएं हुईं, वो इतिहास का हिस्सा हैं। तब विचारों, बाहरी बलों और कंफ्यूजन को लेकर टकराहट थी। मुझे याद है जब मैंने प्रभाकरण (लिट्टे का पूर्व प्रमुख) को टीवी पर मृत देखा। तब मुझे दो अहसास हुए। एक- इस शख्स को इस तरह क्यों किया गया? दूसरा- मुझे प्रभाकरण और उसके बच्चों को लेकर दुख हुआ। इसकी वजह ये थी कि मैं उस दुख को समझ सकता था।”मैंने हिंसा देखी थी। लेकिन ये भी जाना कि वह भी एक इंसान था। उसका भी एक परिवार था। उसके जाने के बाद बच्चे रो रहे थे। मुझे ये सब सोचकर बहुत दुख हुआ। मैंने पाया कि लोगों से नफरत करना काफी कठिन है। मेरी बहन ने भी ऐसा ही किया।

-बता दें कि 21 मई, 1991 में तमिलनाडु के श्रीपेरम्बुदूर में राजीव गांधी की हत्या कर दी गई थी। हत्या लिट्टे की एक सुसाइड बॉम्बर ने की थी।राहुल ने कहा, “मैं जानता था कि मेरे पिता की मौत हो सकती थी। मैं जानता था कि मेरी दादी की हत्या हो सकती थी। राजनीति में अगर आप गलत ताकतों को दबाना चाहते हैं, आप किसी के साथ खड़े होते हैं तो आपको मरना पड़ेगा।प्रधानमंत्रियों के परिवार से जुड़े होने का क्या फायदा मिला, इस पर राहुल ने कहा, “ये इस बात पर निर्भर करता है कि आप सिक्के के कौन से पहलू हैं। हां, ये सच है कि जहां मैं हूं वहां कई तरह की सुविधाएं हैं। लेकिन ये नहीं कहा जा सकता है कि मैं मुश्किल राहों से नहीं गुजरा।

जब 14 साल का था, तब दादी की हत्या हो गई। जिन्होंने मेरी दादी को गोली मारी, मैं उनके साथ बैडमिंटन खेलता था। इसके बाद मेरे पिता की हत्या कर दी गई।आप एक खास तरह के माहौल में रह रहे होते हैं…सुबह से लेकर रात तक आप 15 लोगों से घिरे होते हैं। मुझे नहीं लगता कि ये सुविधाएं हैं। इन सबसे सामंजस्य बैठाने में मुश्किल आती है।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस सब को साथ ले कर आगे बढ़ना चाहती है, जबकि भाजपा देश के लिए महत्वपूर्ण फैसलों में भी सब को साथ रखने में विश्वास नहीं रखती. उन्‍होंने कहा कि शिक्षा क्षेत्र में गुणवत्ता सुधार के लिए सार्वजनिक शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने की आवश्यकता है, संस्थानो को ज्यादा स्वायत्तता और फंड उपलब्ध कराने की भी आवश्यकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here