मोदी सरकार पर सिंगापुर से राहुल गांधी हमला,तिलमिला उठी भाजपा

0
34

नई दिल्ली: सिंगापुर में छात्रों से बातचीत के दौरान कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी से जब सुप्रीम कोर्ट के चार जजों द्वारा प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करने के बारे में पूछा गया तो उन्‍होंने कहा कि लोग इंसाफ के लिए न्‍यायपालिका के पास जाते हैं लेकिन पहली बार चार जज इंसाफ के लिए लोगों के पास आए. उन्‍होंने कहा कि संभवतया, स्वतंत्र भारत में हमारे द्वारा बनाए गए आईआईटी जैसे शैक्षणिक संस्थानों के कारण आप में से बहुत यहाँ बैठे हैं. उन्‍होंने कहा कि हमने इस विचार को अस्वीकार कर दिया कि आप एक अरब लोगों को एक साथ लेकर एक लोकतांत्रिक रास्ते पर आगे नहीं बढ़ सकते है.

महात्मा गांधी द्वारा कल्पना किया गया भारत वह था, जहां हर कोई अपने धर्म, जाति और भाषा के आधार पर घर जैसा महसूस करता था. उस विचार को अब चुनौती दी जा रही है. बता दें की कांग्रेस अध्यक्ष की सिंगापुर की यात्रा को कांग्रेस पार्टी के सूत्र काफी अहम मान रहे हैं। राहुल गांधी के करीबी सूत्र का कहना है कि आठ मार्च को राहुल गांधी वहां अपने विचार रखेंगे। सवाल जवाब का भी उत्तर दे सकते हैं। सिंगापुर के बाद उनका मलेशिया जाने का कार्यक्रम है और करीब चार दिन बाद उनके दिल्ली वापस आने की योजना है।कांग्रेस ताजा राजनीतिक हालात, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय मुद्दों पर गंभीरता के साथ मंथन कर रही है। पार्टी के रणनीतिकार नई ऊर्जा के साथ राजनीतिक अभियान को आगे बढ़ाने के उपायों को लेकर गंभीर है।

सूत्रों के मुताबिक अगले साल मई 2018 तक का समय कांग्रेस के लिए काफी अहम है। इसलिए पार्टी साल के अंत तक राजस्थान, म.प्र., छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव के साथ-साथ लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर आंतरिक संगठनात्मक मजबूती पर फोकस कर रही है। इस क्रम में 13 मार्च को कांग्रेस अध्यक्ष ने पार्टी के सांसदों, वरिष्ठ नेताओं, प्रदेश अध्यक्षों, राज्यों की विधानसभाओं में पार्टी के नेताओं आदि के लिए रात्रिभोज का आयोजन किया है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कमला क्लब के सदस्यों से सिंगापुर इंडियन असंस में मुलाकात की। पूर्व पीएम नेहरु के सुझाव पर लोटस क्लब एंड लेडीज यूनियन के एकीकरण के रूप में बनाया गया था। कमला क्लब महिलाओं के अधिकारों और सशक्तिकरण के मुद्दों पर काम करता है।इसके बाद राहुल गांधी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि दी और सिंगापुर इंडियन एसोसिएशन के साथ बातचीत की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here