सऊदी अरब ने महिलाओं के लिए एक और विभाग का दरवाजा खोला

0
704

रियाद:सऊदी अरब धीरे धीरे महिलाओं कोअपने देश के हर भाग में शामिल करने पर विचार कर रही है। कल तक न वहां फिल्म देखी जा सकती थी और न महिलाऐं गाड़ी ड्राइव कर सकती थीं लेकिन समय के साथ साथ सब कुछ बदलता चला गया और महिलाओं को विभिन्न छेत्रों में काम करने का अधिकार भी मिलता गया। अब सरकार का एक और महिला प्रेम देखने को मिला ,जहाँ सरकार महिलाओं पर मेहरबानी दिखते हुए उन्हें बॉर्डर गार्ड बनने का सुनहरा मौक़ा दिया है। बॉर्डर गार्ड के निदेशालय जनरल ने सीमा गार्ड में काम करने के लिए सऊदी महिलाओं की भर्ती जाएगी.पंजीकरण और आवेदन 24 जून से 30 जून तक प्राप्त किए जाएंगे.सऊदी गैज़ेट के मुताबिक, बॉर्डर गार्ड के निदेशालय ने भर्ती के लिए कुछ शर्तों को निर्धारित किया है.आवेदन करने वाली महिलाऐं सऊदी अरब में जन्मी और वक्हीं पली बड़ी होनी चाहिए.

वह महिला सरकारी कर्मचारी नहीं हो सकती हैं, ना ही सैन्य क्षेत्र में सेवा कर कर रही हो या सेवा से समाप्त हो चुकी हैं. उनके पास अच्छी प्रतिष्ठा होनी चाहिए.वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया के मुताबिक, आवेदन करने वाली महिलाऐं एक स्वतंत्र राष्ट्रीय आईडी धारक होना चाहिए.निदेशालय केवल उन उम्मीदवारों को स्वीकार करेगा जो बाहरी पदों के लिए एक विशिष्ट ऊंचाई सीमा (न्यूनतम 160 सेमी) में आते हैं और वजन पर विचार करने वाले अन्य पदों के लिए 155 सेमी, उनकी लंबाई के अनुपात में होती है.उम्मीदवारों को गैर-सऊदी से शादी नहीं करनी चाहिए. वे एक उच्च विद्यालय डिप्लोमा या समकक्ष धारक होना चाहिए.उन्हें प्रवेश और व्यक्तिगत इंटरव्यू के लिए सभी चरणों और प्रक्रियाओं को पारित करना होगा. सऊदी के बाहर से जारी प्रमाण पत्रों की संख्या शिक्षा मंत्रालय के बराबर होनी चाहिए.


याद रहे की कुछ दिन पहले सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने महिलाओं पर लगे ड्राइविंग बैन को हटाने का ऐतिहासिक फैसला लिया था.अब 24 जून से सऊदी अरब में महिलाएं सड़कों पर गाड़ियां दौड़ाती नज़र आएंगी. इसके लिए महिलाओं को लाइसेंस जारी किए जा रहे हैं.सऊदी के सूचना मंत्रालय के सेंटर फॉर इंटरनेशनल कम्यूनिकेशन विभाग ने कहा, “सोमवार को राजधानी रियाद समेत कई शहरों में 10 महिलाओं को लाइसेंस जारी किए गए. अगले हफ्ते तक 2,000 और महिलाओं को लाइसेंस दिए जाने की संभावना है.लाइसेंस मिलने के बाद एक महिला रेमा जवादत ने कहा, “सऊदी अरब की सड़कों पर गाड़ी चलाना सपना सच होने जैसा है.वो खुशी से कहती हैं, “मेरा गाड़ी चलाना मेरी चॉइस को दिखाता है. आज़ादी से घूम सकने की चॉइस. अब हमारे पास ये विकल्प होगा।

ज्ञात हो की कुछ वक्त पहले तक, कोई यह सोच भी नहीं सकता था कि सऊदी अरब में महिलाएं मोटरसाइकलों से फर्राटा भरती दिखेंगी, लेकिन 24 जून के बाद यह सच हो सकता है। दरअसल, क्राउन प्रिंस के फैसले के बाद इस दिन से महिलाओं पर लगा ड्राइविंग बैन हट जाएगा। इसके लिए वहां महिलाओं के ग्रुप हफ्ते में एक बार ट्रेनिंग स्कूल में जाकर मोटरसाइकल चलाना सीख रहे हैं। इतना ही नहीं जिस सऊदी में महिलाओं सिर से पैर तक ढककर रखा जाता है, वहां ये महिलाएं ट्रेनिंग कैंप में जींस, टी शर्ट पहनती हैं। वहां ये हार्ले डेविडसन जैसी मोटरसाइकिलों से ट्रेनिंग ले रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here