राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के एक स्कूल से चौंकाने वाला मामला सामने आया

0
61

नई दिल्ली :राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जहां एक स्कूल में 50 बच्चियों को इसलिए बेसमेंट में बंद कर दिया गया, क्योंकि उनके पैरेंट्स ने फीस जमा नहीं की थी. बताया जा रहा है कि इस स्कूल में बच्चियों को 4.5 से 5 घंटे तक स्कूल में बंद रखा गया. यह मामला दिल्ली के चांदनी चौक इलाके के राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल का है.पैरंट्स इस बात से हैरान हैं कि महज फीस न चुकाने पर तहखाने (बेसमेंट) में बंधक बनाकर 59 बच्चियां 5 घंटे तक कैद रखी गईं। 40 डिग्री तापमान में भूखी-प्यासी बच्चियां दोपहर होने का इंतजार कर रही थीं, ताकि जल्दी से उनके माता-पिता आकर उन्हें ले जाएं। जब पैरंट्स पहुंचे, तो उन्हें देखते ही बच्चे बुरी तरह रो पड़े।

अभिभावकों के मुताबिक, बच्चियां बेसमेंट में जमीन पर बैठी मिलीं। वहां पंखा तक नहीं था। सभी गर्मी और भूख-प्यास से बेहाल थीं। पेरेंट्स ने जब हेड मिस्ट्रेस फराह खान से शिकायत की तो उन्हें स्कूल से बाहर निकालने की धमकी दी। खान के मुताबिक फीस जमा न करने वाले बच्चों को ही यहां रखा गया था। पेरेंटस का कहना है कि हमने सितंबर तक की फीस जमा करा दी थी। एक बच्चे के माता-पिता ने मीडिया को चेक भी दिखाया। उधर, स्कूल प्रशासन ने सफाई में कहा कि यह तहखाना (बेसमेंट) नहीं है, बल्कि एक्टिविटी रूम है। वहां हवा और लाइट की व्यवस्था है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया, “इस घटना से मुझे झटका लगा। जैसे ही कल मुझे इस बात की जानकारी मिली, मैंने अधिकारियों को कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया।

पुलिस के मुताबिक, बल्लीमारान स्थित गली कासिम जान में राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल है। यहां नर्सरी से 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई होती है। आरोप है कि सोमवार सुबह जब स्कूल खुला तो सुबह 6.45 बजे नर्सरी और केजी कक्षा के अभिभावक अपने-अपने बच्चों को यहां छोड़ गए।दूसरी तरफ स्कूल प्रशासन ने अपनी सफाई में कहा कि जहां बच्चों को रखा गया था वह तहखाना नहीं एक्टिविटी रूम है। कमरे में हवा व लाइट की व्यवस्था है। लेकिन बच्चियों को वहां क्यों रखा गया, इस पर स्कूल प्रशासन कोई जवाब नहीं दे पाया। वहीं कुछ परिजनों ने कहा कि उनकी पहले से एडवांस फीस जमा था, बावजूद इसके उनकी बच्चियों को भी बंधक बनाकर रखा गया। पुलिस अधिकारी मामले की छानबीन कराने की बात कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here