हिंदुस्तान को रेपिस्तान कहने वाले कश्मीरी यूपीएसएसी टॉपर शाह फैसल के खिलाफ कार्रवाई की मांग

0
42

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के पहले यूपीएसएसी टॉपर शाह फैसल (35) के खिलाफ केंद्र सरकार ने मंगलवार को अनुशासनात्मक कार्रवाई के आदेश दिए। कार्मिक विभाग के ऑर्डर के मुताबिक, “अपने कर्तव्यों के लेकर फैसल ईमानदारी साबित करने में नाकाम रहे। लिहाजा राज्य सरकार को उनके खिलाफ कार्रवाई करना चाहिए।” दरअसल, फैसल ने एक ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा था, “वंशवाद + आबादी + अशिक्षा + एल्कोहल + पोर्न + टेक्नोलॉजी + अराजकता= रेपिस्तान।” इसके बाद उन पर कार्रवाई के आदेश हुए।

2011 बैच के आईएएस अफसर फैसल ने सरकारी आदेश की कॉपी को टैग करते हुए लिखा, “साउथ एशिया में रेप कल्चर को व्यंग्यात्मक लहजे में लिखने पर मेरे बॉस की तरफ से लव लेटर भेजा गया है। मामले का सार ये है कि लोकतांत्रिक भारत में हमारी सेवा के नियम अभी भी उपनिवेशवादी ही बने हुए हैं, जहां अपने विचारों को दबाकर ही रखना पड़ता है।फैसल को भेजे गये एक नोटिस में सामान्य प्रशासन विभाग ने कहा है कि आप कथित रूप से आधिकारिक कर्तव्य निभाने के दौरान पूर्ण ईमानदारी और सत्यनिष्ठा का पालन करने में असफल रहे हैं.

यह एक लोक सेवक के लिए उचित व्यवहार नहीं है.विभाग ने केन्द्र के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग के अनुरोध पर फैसल के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है. फैसल ने कई महीने पहले ये ट्वीट किया था.हालांकि, फैसल ने अपने ट्वीट में साफ तौर पर इसका जिक्र नहीं किया है, लेकिन इशारों में ‘लव लेटर’ लिखकर नोटिस मिलने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘ दक्षिण एशिया + में बढ़ते रेप कल्चर के खिलाफ व्यंग्यात्मक ट्वीट के लिए मुझे अपने बॉस से लव लेटर मिला है।

सबसे दुखद बात तो यह है कि भारत में सर्विस के कायदे आज भी औपनिवेशिक तरीके के हैं। औपनिवेशिक मंशा वाले कानूनों का उद्देश्य मुखर आवाजों की स्वतंत्रता पर हमला करना है।मंगलवार को जब फैसल के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के आदेश दिए तो उन्होंने अपना गुस्सा ज़ाहिर किया.उन्होंने कहा कि उन्हें अपनी नौकरी जाने कोई डर नहीं है. उन्होंने कहा, “मेरी नौकरी जा सकती है. लेकिन दुनिया संभावनाओं से भरी है.

फैसल कहते हैं, “सरकारी अधिकारी की एक छवि है. वो गुमनाम हैं, उन्हें बहस नहीं करनी है, उनके चारों ओर जो कुछ भी हो रहा है वो उसे देख कर अपनी आंखें बंद कर लें. लेकिन इसे अब बदलने की जरुरत है.”मंगलवार को शाह फैसल ने एक और ट्वीट किया. इस ट्वीट के साथ उन्होंने वो लेटर भी शेयर किया है, जिसमें उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की बात की गई है. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, “दक्षिण एशिया में रेप-कल्चर के खिलाफ मेरे मजाकिया ट्वीट पर मेरे बॉस का लव लेटर. मैं नियमों में बदलाव की जरूरत पर बल देने के लिए इसे शेयर कर रहा हूं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here