विजय मालिया को लंदन की अदालत से मिली बड़ी राहत

0
19

लंदन: भारत में धोखाधड़ी और 9000 करोड़ रुपये के गबन के आरोपों को लेकर भारत में मोस्ट वांटेड शराब कारोबारी विजय माल्या अपनी डिपोर्टेशन की सुनवाई के सिलसिले में अदालत में पेश हुए लेकिन सुनवाई बेनतीजा रही. दरअसल ये सुनवाई इसलिए बेनतीजा रही क्योंकि बचाव पक्ष अपनी दलीलें पूरी नहीं कर पाया.माल्या लंदन में वेस्टमिनिस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में फिर एक बार पहुंचे क्योंकि बचाव पक्ष भारत सरकार के सबूतों के खिलाफ़ अपनी दलीलें पेश करना चाह रहा है. सुनवाई के दौरान इस मामले में अंतिम सुनवाइयों में एक सुनवाई होने की संभावना थी लेकिन यह बेनतीजा रही क्योंकि बचाव पक्ष अपनी दलीलें पूरी नहीं कर पाया.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजीजू ने शराब कारोबारी विजय माल्या के खिलाफ चल रहे प्रत्यर्पण के मामले में ब्रिटेन की सरकार से सहयोग की मांग की। माल्या धोखाधड़ी से जुड़े मामलों तथा करीब नौ हजार करोड़ रुपये की मनी लौंड्रिंग के सिलसिले में भारत में वांछित हैं। रिजीजू ने ब्रिटेन के सुरक्षा व आर्थिक अपराध मामलों के मंत्री बेन वॉलेस के साथ द्विपक्षीय बैठक की। इस बैठक में रिजीजू को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में माल्या की चल रही सुनवाई के बारे में अवगत कराया गया।

अब अगली सुनवाई में कोर्ट माल्या पर फैसला सुना सकता है। हालांकि अभी अगली सुनवाई के लिए तारीख तय नहीं की गई है। वहीं सुनवाई के दौरान माल्या के वकील ने बचाव में कहा कि ब्रिटेन के कानून के मुताबिक भारत के कोई भी सबूत स्वीकार करने लायक नहीं है। हालांकि अभी भारत की तरफ से इस मसले पर पक्ष नहीं रखा गया है। बता दें कि माल्या पर बैंकों का 9000 करोड़ रुपये का कर्ज नहीं चुकाने का आरोप है। इससे पहले की सुनवाई में जज ने दोनों पक्षों को अपने तर्क पेश करने का निर्देश दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here