बाबा को बड़ा झटका,पतंजलि के करोनिल पर नई पाबंदी

0
14

नई दिल्ली:बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद ने कोरोना वायरस की दवा बनाने का दावा किया है. इस हर्बल दवा का नाम कोरोनिल है. और इसे जड़ी-बूटियों से बनाने का दावा किया गया है. बाबा रामदेव का दावा है कि दवा को 280 लोगों पर आज़माया गया. हालांकि, अब तक इस दवा के असर को लेकर स्वतंत्र पुष्टि नहीं की गई है.

वहीँ दूसरी तरफ कोरोना को ठीक करने के दावे के साथ लांच की गई बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि की दवा कोरोनिल के प्रचार-प्रसार पर केंद्र ने रोक लगा दी है। सरकार ने पहले इस दवा के लिए किये जा रहे दावों की जांच करने का फैसला किया है। आयुष मंत्रालय ने पतंजलि को चेतावनी दी है कि ठोस वैज्ञानिक सबूतों के बिना कोरोना के इलाज का दावे के साथ दवा का प्रचार-प्रचार किया गया तो उसे ड्रग एंड रेमेडीज (आपत्तिजनक विज्ञापन) कानून के तहत संज्ञेय अपराध माना जाएगा।

बाबा रामदेव ने जैसे ही मंगलवार को कोरोना को सात दिन में पूरी तरह ठीक करने के दावे के साथ दवा को लांच किया, आयुष मंत्रालय हरकत में आ गया। इसके बाद आयुष मंत्रालय ने तत्काल पतंजलि को दवा के प्रचार-प्रसार के विज्ञापनों पर रोक लगाने को कह दिया। मंत्रालय ने स्पष्ट कर दिया कि यदि इसके बाद दवा का विज्ञापन जारी रहा, तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। आयुष मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पतंजलि ने ऐसी किसी दवा के विकसित करने और उसके ट्रायल की कोई जानकारी मंत्रालय को नहीं दी है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय की अनुमति से कई आयुर्वेदिक दवाओं का कोरोना के इलाज में ट्रायल किया जा रहा है, लेकिन उनमें पतंजलि की दवा शामिल नहीं है।

पतंजलि योगपीठ के प्रमुख रामदेव ने कहा था कि दवा क्लीनिकल टैस्टिड है। रामदेव के करीबी व पतंजलि आयुर्वेद के एमडी बालकृष्ण ने कहा कि हमने कोविड-19 के प्रयोग के बाद वैज्ञानिकों की टीम नियुक्त की। उन्होंने कहा कि पतंजलि ने सैंकड़ों कोरोना रोगियों पर स्टडी की है। पतंजलि ने इस दवा को नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ़ मेडिकल साईंस जयपुर के साथ मिलकर तैयार करने का दावा किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here