मोदी सरकार शहर से पहले अपने मुस्लिम नेताओं का नाम बदले :भाजपा नेता

0
57

लखनऊ :पहले इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और अब फैजाबाद का नाम अयोध्या करने के बीजेपी सरकार के ऐलान पर भारतीय जनता पार्टी को अपने ही साथियों से विरोध झेलना पड़ रहा है। सरकार में रहते हुए सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले उत्तर प्रदेश के मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने शहरों के नाम बदलने को लेकर बीजेपी पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि मुद्दों से भटकाने के लिए यह सब नाटक है। उन्होंने कहा कि बीजेपी पहले अपने मुस्लिम नेताओं के नाम बदले। राजभर ने बीजेपी के तीन मुस्लिम नेताओं शाहनवाज हुसैन, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और मोहसिन रजा का नाम लेते हुए कहा कि शहरों का नाम बदलने से पहले इन मुस्लिम नेताओं का नाम बदलें।राजभर इलाहाबाद और फैजाबाद का नाम योगी सरकार द्वारा बदले जाने को लेकर नाराज थे। उन्होंने कहा कि मुस्लिमों ने जो निर्माण कार्य देश में कराया वह किसी और ने नहीं कराया। इलाहाबाद और फैजाबाद का नाम सिर्फ इसलिए बदल देना क्योंकि वह मुगल के नाम पर हैं, सरासर गलत है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार इस तरह के नाटक पिछड़े वर्ग के लोगों की आवाज को दबाने और उनका ध्यान मुद्दों से भटकाने के लिए कर रही है।जब भी शोषित वर्ग अपनी आवाज उठाने की कोशिश करता है,BJP कोई न कोई नया मुद्दा छेड़ देती है।राजभर ने बीजेपी सरकार से सवाल किया कि लाल किला और ताजमहल किसने बनवाया?बता दें कि 6 नवंबर को अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान सीएम ने फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या करने की घोषणा की थी.इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर दीनदयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन रखा था. विपक्षी दलों समेत कई संगठनों ने इस फैसले की निंदा की थी.थोड़ी देर के लिए मज़ाक़ में ही सही अगर हम मान भी लें की यह तय हो गया है की इन नेताओं का भी नाम बदले गए तो सोचिये के इनके बदले हुए नाम किया होंगे।मुख़्तार अब्बास का तो मोहन दास हो जाएगा,मोहसिन राजा का मोहन राजा हो जाएगा और शाहनवाज़ हुसैन का क्या होगा फिर ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here