दिल्ली हिंसा पीड़ितों को कैंपस में शरण देने पर JNU वीसी और छात्र संघ आमने सामने

0
40

नई दिल्ली :जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) प्रशासन ने शुक्रवार को यूनिवर्सिटी के छात्र संघ को परिसर में उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा के पीड़ितों को आश्रय देने के खिलाफ चेतावनी दी। इस संबंध में जारी किए गए नोटिस में, जेएनयू के रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार ने ऐसे किसी भी प्रयास में शामिल छात्रों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी। नोटिस में कहा गया है कि जेएनयू छात्र संघ (जेएनयूएसयू) को जेएनयू परिसर को आश्रय गृह बनाने का कोई कानूनी अधिकार नहीं है।
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) प्रशासन ने दिल्ली के हिंसा पीड़ितों को आश्रय देने के खिलाफ छात्र संघ को चेतावनी दी है. शुक्रवार को जारी नोटिस में जेएनयू के रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार ने ऐसे किसी भी प्रयास में शामिल छात्रों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी है.नोटिस में कहा गया कि जेएनयू छात्र संघ (JNUSU) को कोई कानूनी अधिकार नहीं है कि वो यूनिवर्सिटी कैम्पस को आश्रय स्थल बनाए.नोटिस के मुताबिक, ‘आपको (जेएनयू छात्रसंघ) ऐसी किसी भी गतिविधि के खिलाफ कड़ी चेतावनी दी जाती है. इसमें विफल रहने पर उचित अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी. जेएनयू छात्रसंघ को यह भी सलाह दी जाती है कि जेएनयू जैसे शैक्षणिक संस्थान को अध्ययन और अनुसंधान के लिए एक जन्मजात स्थान बनाए रखने की आवश्यकता को बनाए रखें.
जेएनयू के वीसी प्रोफेशर जगदीश कुमार ने समाचार एजेंसी एएनआइ को बताया ‘हम चाहते हैं कि दिल्ली में शांति और सद्भाव कायम रहे और प्रभावित लोगों को हर संभव मदद मुहैया कराई जाए। हमारे परिसर में कुछ छात्रों ने बाहरी लोगों को परिसर में आने और रहने के लिए खुले तौर पर बात कही। ये वही छात्र हैं, जिन्होंने जनवरी में हुई घटना के लिए बाहरी लोगों को जिम्मेदार ठहराया था।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here