किसानों का साफ़ एलान ”जीतेंगे या मरेंगे”

0
17

नई दिल्ली: केंद्र सरकार (Central Government) और किसान नेताओं (Farmers) के बीच आज हुई 8वें दौर की वार्ता कुछ अलग थी. क्योंकि शांति से आंदोलन करने की बात करने वाले किसान बैठक में नाराज हो गए और फिर बहस करने लगे. इस दौरान एक समय ऐसा भी आया जब तीनों मंत्री बीच मीटिंग में ही हॉल से बाहर चले गए.

केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अलावा रेल एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्यमंत्री सोम प्रकाश इस बैठक में शिरकत कर रहे हैं. किसानों ने मांगें नहीं मानने पर गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर राजधानी में ट्रैक्टर रैली निकालने की धमकी दे रखी है. किसानों के साथ अगले दौर की बैठक 15 जनवरी को होगी.बैठक शुरू होते ही कृषि मंत्री ने कहा कि वो पूरे देश को ध्यान में रखकर ही कोई फैसला लेंगे. इस बीच किसान नेताओं ने दो टूक लहजे में कहा कि जब तक केंद्र सरकार कानून वापस नहीं लेती है, तब तक वो घर वापस नहीं जाएंगे. भारतीय किसान यूनियन (BKU Rajjewal) गुट के नेता बलबीर सिंह रजवाल ने तीनों नए कृषि कानूनों (New Farm Laws) को रद्द करने की मांग की. उन्होंने दावा किया कि सरकार इस तरह से कृषि क्षेत्र में दखल नहीं दे सकती. उन्होंने कहा कि सरकार के रुख से लगता है कि वह इस विवाद को सुलझाने के लिए तैयार नहीं है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here