पत्रकार हत्याकांड में राम रहीम दोषी क़रार,6 दिनों बाद सजा का होगा एलान

0
36

साल 2002 में हरियाणा के सिरसा में जिस पत्रकार को गुरमीत राम रहीम की हैवानियत की खबरें छापने पर सरेआम गोलियों से भून दिया गया था आज उसके परिवार के लिए इंसाफ का दिन है. 17 साल बाद बहुचर्चित पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में आज पंचकुला की विशेष सीबीआई अदालतने अपना फैसला सुना दिया है. इस मर्डर केस में गुरमीत राम रहीम समेत चार लोग आरोपी थे स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम को दोषी करार दिया है. राम रहीम के साथ तीन और आरोपी दोषी करार दिए गए हैं. रोहतक की सुनारिया जेल में बंद डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम की पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई. इस फैसले के मद्देनजर डेरा सच्चा सौदा, सुनारिया जेल और विशेष अदालत के बाहर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे. पंजाब और हरियाणा पुलिस ने अलर्ट जारी किया था.

पहले पुलिस गुरमीत सिंह राम रहीम की कोर्ट में पेशी को लेकर परेशान थी. लेकिन बाद में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही इस मामले में उसे पेश करने का फरमान जारी किया गया.पुलिस को डर था कि अगर गुरमीत सिंह राम रहीम को पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में पेश किया गया तो ऐसे में कानून-व्यवस्था बिगड़ सकती है. डेरा समर्थक बेकाबू हो सकते हैं. इसी के चलते हरियाणा सरकार ने पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में अपील की थी. जिसे कोर्ट ने मान लिया.डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर किशन लाल, निर्मल और कुलदीप के साथ मिलकर साजिश रचकर सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या की थी,आरोप था कि बाइक पर आए कुलदीप और निर्मल ने गोली मारकर रामचंद्र प्रजापति की हत्या कर दी थी. छत्रपति ने अपने ईवनिंग अखबार ‘पूरा सच’ में अनाम साध्वी का पत्र प्रकाशित किया था और पूरे मामले का खुलासा किया था.इस मामले के तूल पकड़ने के बाद रामचंद्र छत्रपति की हत्या 16 साल पहले कर दी गई थी. 16 सालों से यह केस चल रहा है और सीबीआई इस केस में अपनी रिपोर्ट पेश कर चुकी है. अंतिम सुनवाई भी संपन्न हो चुकी है और इस केस में फैसला सुनाया जा चूका है.सज़ा कितने साल की मिलेगी यह 17 जनवरी को अदालत सुनाएगी ,अभी दोषी घोषित क्र दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here