मोबाइल फोन पर घंटों लगे रहने से युवाओं के सिर में निकल रहे हैं ‘सींग’:रिपोर्ट

0
39

नई दिल्‍ली: मोबाइल टेक्‍नोलॉजी ने हमारे जीने के तरीके को पूरी तरह बदलकर रख दिया है. फिर चाहे वह पढ़ना हो, काम करना हो, एक-दूसरे तक अपनी बात पहुंचाना हो, शॉपिंग हो या किसी के साथ डेटिंग ही क्‍यों न हो, मोबाइल के आने के बाद सबकुछ बदल गया है. वैसे यह सब तो हम जानते ही हैं. इसमें नया कुछ नहीं है. लेकिन जो बात हमें नहीं पता वह यह है कि मोबाइल जैसी छोटी सी मशीन हमारे शरीर के अंदर अस्थि-पंजर यानी कि कंकाल को भी बदल रही हैं. एक नए शोध के मुताबिक मोबाइल का ज्‍यादा इस्तेमाल करने वाले युवाओं के सिर में ‘सींग’ निकल रहे हैं. सिर के स्कैन में इस बात की पुष्टि भी हो गई है.

ये नई रिसर्च Bio machenics (जैव यांत्रिकी) पर की गई है जिसमें ये सामने आया है कि जो युवा सिर को ज्यादा झुकाकर मोबाइल यूज कर रहे हैं, उनकी खोपड़ी में सींग विकसित हो रहे हैं. इस रिसर्च में 18 से 30 साल के ऐसे युवाओं को शामिल किया गया जो मोबाइल पर कई घंटे बिताते हैं.रीढ़ की हड्डी से वजन के शिफ्ट होकर सिर के पीछे की मांसपेशियों तक जाने से कनेक्टिंग टेंडन और लिगामेंट्स में हड्डी का विकास होता है। नतीजतन एक हुक या सींग की तरह की हड्डियां बढ़ रही हैं, जो गर्दन के ठीक ऊपर की तरह खोपड़ी से बाहर निकली हुई है।मोबाइल पर घंटों बिताने वाले युवा खासकर 18 से 30 साल के आयु वर्ग के लोग इस नई बीमारी के ज्यादा शिकार हो रहे हैं। ये रिसर्च ऑस्ट्रेलिया के सनशाइन कोस्ट यूनिवर्सिटी में किया गया। ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में सनशाइन कोस्ट विश्वविद्यालय के दो शोधकर्ताओं का तर्क है कि युवाओं में हड्डी के विकास के मामले आधुनिक तकनीक के उपयोग के लिए शरीर की मुद्राओं के बदलने की तरफ इशारा करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here