12 सितंबर से चलेंगी 80 नई विशेष ट्रेनें और फिर……….

0
3

नई दिल्ली :कोरोना काल में ट्रेनों की संख्या में कटौती के बाद अब व्यवस्था धीरे-धीरे पटरी पर उतरने लगी है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने कहा कि रेलवे 12 सितंबर से 80 नई स्पेशल ट्रेनें चलाने जा रहा है। इनके लिए रिजर्वेशन 10 सितंबर शुरू होगा। आपको बता दें कि इस समय करीब 230 विशेष गाड़ियों का परिचालन किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि ट्रेनों के संबंध में अधिसूचना दिन में बाद में जारी की जाएगी । उन्होंने कहा कि 80 नई विशेष ट्रेनें या 40 जोड़ी ट्रेनें 12 सितंबर से शुरू होंगी । इसके लिए आरक्षण 10 सितंबर से आरंभ होगा। ये ट्रेनें पहले से ही चल रही 230 ट्रेनों के अतिरिक्त होंगी। यादव ने कहा कि रेलवे वर्तमान में संचालित सभी ट्रेनों की निगरानी कर पता लगाएगा कि किन ट्रेनों में प्रतीक्षा सूची लंबी है । देश में कोरोना संक्रमण को देखते हुए रेलवे ने 22 मार्च से पैसेंजर ट्रेनों, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया था। वहीं, लॉकडाउन के बीच विभिन्न स्थानों पर फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए रेलवे मे 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को शुरू किया था। इसके बाद 12 मई से राजधानी स्पेशल ट्रेनें शुरू की गईं और फिर 1 जून से 100 जोड़ी और ट्रेनों को चलाया गया। इस तरह अभी 230 ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है।रेल मंत्रालय ने पहले कई श्रमिक स्पेशल ट्रेन सेवाओं के साथ-साथ आईआरसीटीसी स्पेशल ट्रेन सेवाओं की शुरुआत की थी। कोरोना महामारी के कारण इस समय सभी यात्री ट्रेन सेवाएं निलंबित हैं। अभी देश में 230 स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं।

आने वाले दिनों में 100 और ट्रेनें चलाने की योजना
29 अगस्त को अनलॉक-4 की गाइडलाइन जारी होने के तीन दिन बाद भारतीय रेलवे ने कहा था कि रेलवे आने वाले दिनों में 100 और ट्रेनें चलाने की योजना पर काम कर रहा है। कोरोनावायरस और लॉकडाउन के चलते रेलवे ने 25 मार्च से ही सभी पैसेंजर, मेल और एक्सप्रेस ट्रेन सर्विस को रद्द कर दिया था।

रेलवे की परीक्षाएं 15 दिसंबर से
चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने बताया, ‘रेलवे 1 लाख 40 हजार 640 पदों टेक्नीकल-नॉन टेक्नीकल ग्रेड के लिए परीक्षाएं आयोजित कर रहा है। ये कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट होगा। रेलवे ये परीक्षाएं 15 दिसंबर से कराएगा। इसके लिए 2 करोड़ 42 लाख आवेदन मिले हैं। इनकी स्क्रूटनी कर ली गई है। शेड्यूल जल्द जारी किया जाएगा।’

1 मई से चलाई गई थीं श्रमिक स्पेशल ट्रेनें
रेलवे ने श्रमिकों के लिए 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई थीं। इनके जरिए देश भर के श्रमिकों को उनके घर तक पहुंचाया गया था। रेलवे ने बताया था कि श्रमिक ट्रेनों का 85% खर्च केंद्र ने उठाया। 15% खर्च किराए के रूप में राज्यों ने वहन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here