यात्रीगण कृपया ध्यान दें,अब ऑनलाइन रेल टिकट बुक करना होगा महंगा

0
16

नई दिल्ली :आईआरसीटीसी से ई-टिकट खरीदना अब महंगा होगा. इंडियन रेलवे ने 1 सितंबर से सर्विस चार्जेस फिर से लेने का फैसला किया है. IRCTC की ओर से 30 अगस्त को जारी आदेश के मुताबिक अब IRCTC गैर वातानुकूलित श्रेणी की ई-टिकट पर 15 रुपये और प्रथम श्रेणी सहित वातानुकूलित श्रेणी की सभी ई-टिकट पर 30 रुपये का सेवा शुल्क वसूल करेगा. साथ ही, GST इससे अलग होगा. आपको बता दें कि 3 साल पहले मोदी सरकार ने डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए सर्विस चार्जेस वापस ले लिया था. पहले IRCTC गैर वातानुकूलित श्रेणी की ई-टिकटों पर 20 रुपये और सभी वातानुकूलित श्रेणी की ई-टिकटों पर 40 रुपये का सेवा शुल्क लेता था.
IRCTC द्वारा जारी किए गए 30 अगस्त के आदेश के अनुसार अब गैर-एसी क्लास के लिए 15 रुपये प्रति टिकट और AC क्लास के लिए 30 रुपये प्रति टिकट सेवा शुल्क वसूला जाएगा। यहा आपको बता दें कि जीएसटी अलग से वसूला जाएगा। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार डिजिटल इंडिया परियोजना के तहत डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए तीन साल पहले सेवा शुल्क वापस ले लिया गया था। इससे पहले IRCTC नॉन-एसी (non AC) ई-टिकट पर 20 रुपये और एसी क्लास के लिए 40 रुपये का सर्विस चार्ज वसूलता था। इस महीने की शुरुआत में, रेलवे बोर्ड ने इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) को ऑनलाइन टिकट बुक करने वाले यात्रियों से सर्विस चार्ज के फिर से वसूलने के लिए मंजूरी दे दी थी।

IRCTC की वेबसाइट पर रिज़र्वेशन चार्ट देखने का तरीका…
1. IRCTC की वेबसाइट पर जाएं। नीचे की तरफ आपको ‘Charts/Vacancy’ का नया विकल्प नज़र आएगा।
2. आपको सफर का ब्योरा देना होगा। जैसे- ट्रेन नंबर, सफर की तारीख और बोर्डिंग स्टेशन
3. इसके बाद क्लास और कोच के आधार पर खाली सीटों की जानकारी मिल जाएगी।
4. इसके बाद किसी खास कोच नंबर पर क्लिक करके आप सीट के आधार पर पूरा ब्योरा देख सकते हैं।

IRCTC के नए फीचर के बारे में ज़रूरी बातें…
1. एयरलाइन की टिकट की तरह भारतीय रेलवे की वेबसाइट, IRCTC, पर अलग-अलग रंग में सीटों का दिखाया जाएगा। रंग बुक्ड, खाली और पार्शियली बुक्ड के आधार पर तय होंगे।
2. यह फीचर क्लास और कोच के आधार पर खाली सीटों का ब्योरा देता है। यह जानकारी रिज़र्वेशन सूची के पहले चार्ट के आधार पर उपलब्ध होता है। बता दें कि पहला चार्ट ट्रेन खुलने से चार घंटे पहले तैयार होता है।
3. अगर दूसरा चार्ट बनता है तो सेकेंड चार्ट के तहत उपलब्ध खाली सीटों का ब्योरा भी देखने का विकल्प आएगा। दूसरा चार्ट आम तौर पर ट्रेन खुलने से 30 मिनट पहले तैयार होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here