Latest Updates:-खून खराबे से लाल हुवा जेएनयू

0
28

नई दिल्ली :जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) और वामपंथी छात्र संगठनों ने एक दूसरे पर रविवार को लाठी से मारपीट करने और एक दूसरे पर पत्थर फेंकने का आरोप लगाया है। एक दूसरे पर हिसंक गतिविधि में शामिल होने का भी आरोप लगाया गया। दोनों ही गुटों की तरफ से बताया गया कि रविवार को हुए इस घटनाक्रम में एबीवीपी और वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े छात्र घायल ही गए हैं। कुछ छात्रों को एम्स व सफदरजंग अस्पताल भी ले जाया गया है।प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि शाम करीब 6:30 बजे लगभग 50 गुंडे जेएनयू कैंपस में में घुस आए और छात्रों पर हमला करना शुरू कर दिया. इन लोगों ने कैंपस में मौजूद कारों को भी निशाना बनाया और हॉस्टल में भी तोड़फोड़ की. जेएनयू के प्रोफेसर अतुल सूद ने बताया कि इन हमलावरों में हॉस्टल पर पत्थरबाजी की और यूनिवर्सिटी की संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया. 15 छात्रों को एम्स ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है, जिनमें से दो की हालत गंभीर बताई जा रही है.

JNUSU के महासचिव सतीश यादव ने कहा कि यूनिवर्सिटी प्रशासन छात्रों के आंदोलन की धार को कमजोर करने के लिए ऐसी हरकतें कर रहा है.सतीश चंद्र का कहना है कि JNU में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ हमारा आंदोलन पिछले 68 दिनों से शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है. लेकिन प्रशासन हमारी मांगों को पूरा नहीं करना चाहता है. इसलिए प्रशासन की ओर से तरह-तरह के प्रोपगेंडा अपनाए जा रहे हैं.JNU गेट के बाहर ABVP वाले भारत माता की जय के साथ प्रदर्शन कर रहे हैं और JNUSU दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर दिल्ली पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

“रविवार सुबह हद हो गई. एडमिन के कई कर्मचारी, प्रोफेसर और एबीवीपी के छात्र गुंडई की हद को पार कर गए. 68 दिनों से प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों को घसीट-घसीटकर मारा गया. मैं उनको बचाने के लिए वहां पहुंचा और उनसे हिंसा न करने की गुजारिश की. लेकिन फिर उन्होंने मुझे भी दौड़ा-दौड़ाकर पीटा. मेरी आंख, सिर, कान पर चोट आई है. मेरे कई साथी भी घायल हुए हैं, उन्हें दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here