16 महीने बाद आसिफा को मिला इंसाफ,दरिंदों मो मिली बड़ी सजा

0
30

नई दिल्ली :जम्मू-कश्मीर के कठुआ में खानाबदोश समुदाय की आठ साल की बच्ची से बलात्कार और फिर उसकी हत्या कर दिए जाने के मामले में एक विशेष अदालत ने सोमवार को छह दोषियों में से तीन को उम्रकैद की सजा सुनाई है। इन तीनों के नाम सांजी राम, परवेश कुमार और दीपक खुजारिया है। इसके अलावा तीन अन्य को पांच साल की सजा सुनाई गई है। इससे पहले मुख्य आरोपी सांजीराम के बेटे (सातवें आरोपी) विशाल को बरी कर दिया गया। मंदिर के संरक्षक व ग्राम प्रधान सांझी राम, विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया और प्रवेश कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। एसपीओ सुरेन्द्र कुमार, सब इंस्पेक्टर आनंद दत्ता और हेड कांस्टेबल तिलक राज को पांच-पांच साल की सजा हुई। वहीं सांझी राम के बेटे विशाल को बरी कर दिया गया है।
हेड कांस्टेबल तिलक राज और उप निरीक्षक आनंद दत्ता ने कथित रूप से सांझी राम से 4 लाख रुपये लिए और सबूत नष्ट कर दिए थे। किशोर आरोपी के खिलाफ मुकदमा शुरू होना अभी बाकी है, क्योंकि उसकी उम्र का निर्धारण करने वाली याचिका जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय के समक्ष विचाराधीन है।पिछले साल 10 जनवरी को बकरवाल समुदाय से ताल्लुक रखने वाली बच्ची का अपहरण किया गया था। इसके बाद 17 जनवरी को उसका शव क्षत-विक्षत हालत में बरामद हुआ था। इस सनसनीखेज मामले के खिलाफ पूरे देश में विरोध-प्रदर्शन हुए और पीड़िता के लिए न्याय की गुहार लगाई गई। इस वीभत्स मामले में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने 15 पन्ने की चार्जशीट दाखिल की थी जिसमें कई चौंकाने वाले खुलासे हुए थे।
पठाकनकोट की अदालत ने छह आरोपितों को दोषी ठहराया था और एक को बरी कर दिया है। कोर्ट में सजा का ऐलान इस पर सुनवाई के बाद किया गया। अदालत ने सांझी राम, प्रवेश कुमार और दीपक खाजुरिया को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। उन पर एक-एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। तीन अन्‍य दोषियों को पांच-पांच साल कैद की सजा सुनाई गई है। उन पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगया गया है।सरकारी अधिवक्ता एसएस बत्रा ने बताया कि दोषी सांझी राम, प्रवेश कुमार उम्रकैद को और एक – एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। उनको जेल में 25 साल बिताने होंगे। अन्य दोषी तिलक राज, आनंद दत्ता और सुरिंद्र कुमार को पांच-पांच साल कैद व 50-50 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here