कश्मीरी आतंकियों के लिए छलके महबूबा के आंसू,कह दी बड़ी बात

0
76

नई दिल्ली :जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती ने आतंकियों की वकालत करते हुए एक विवादित बयान दे डाला है. महबूबा मुफ्ती ने अनंतनाग में बयान देते हुए कहा कि कश्मीर के लोगों को जानबूझकर निशाना बनाया जा रहा है. इतना ही नहीं महबूबा ने आतंकियों को धरतीपुत्र बताते हुए कहा कि उनकी जान बचाई जानी चाहिए. महबूबा ने ये भी कहा कि सरकार को कश्मीर में शांति बहाल करने के लिए अलगाववादियों और पाकिस्तान से बातचीत करनी चाहिए.

पत्रकारों से मुखातिब होते हुए पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि ऑपरेशन ऑलआउट को रोककर आतंकवादियों से बात करनी चाहिए. महबूबा ने कहा कि वे हमेशा से कहती रही हैं कि स्थानीय आतंकवादी कश्मीर की मिट्टी के बच्चे हैं. हमारी कोशिश उन्हें बचाने की होनी चाहिए. महबूबा ने कहा कि मुझे लगता है कि जम्मू-कश्मीर में सिर्फ हुर्रियत ही नहीं बल्कि जो लड़के बंदूक उठाए हुए हैं, उन्हें भी जोड़ना चाहिए, लेकिन इस वक्त नहीं.जेएनयू मामले में दाखिल चार्जशीट पर महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 2019 का चुनाव जीतने के लिए बीजेपी ये खेल खेल रही है.महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 2014 के चुनाव से पहले इसी तरह कांग्रेस ने अफजल गुरु को फांसी दी थी. कांग्रेस ने सोचा था कि शायद इसी तरह से उनको कामयाबी मिलेगी. आज बीजेपी वही दोहरा रही है. आज उन्होंने कन्हैया, उमर खालिद के अलावा जम्मू-कश्मीर के 7-8 स्टूडेंट्स के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है.

महबूबा ने अनंतनाग में पार्टी के कार्यक्रम के बाद कहा- इस वक्त पाकिस्तान और अलगाववादियों से बात होनी चाहिए। इसी तरह आतंकी नेतृत्व से भी बात होनी चाहिए, ये वही लोग हैं, जिनके हाथ में बंदूकें हैं और यही राज्य में ‘गन कल्चर’ खत्म कर सकते हैं।पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा- मेरा मानना है कि कुछ स्तरों पर हुर्रियत और आतंकियों से भी बात होनी चाहिए। हालांकि, उन्होंने कहा कि आतंकियों से बात करना अभी जल्दी होगी। उन्होंने कहा कि स्थानीय आतंकियों को हिंसा के रास्ते पर जाने से रोकना चाहिए।

उन्होंने कहा कि 1996 में राजनीति में आई, तभी से मैं कह रही हूं कि स्थानीय आतंकी ‘माटी के सपूत’ हैं। उन्हें बचाने के अधिकतम प्रयास होने चाहिए, क्योंकि वे हमारी संपत्ति हैं। महबूबा ने कहा- अगर कहीं मुठभेड़ में आतंकी और सुरक्षाबल आमने-सामने होते हैं, तब उस वक्त कोई कुछ नहीं कर सकता।इससे पहले सोमवार को महबूबा ने लोकसभा चुनाव के तीन महीने पहले जेएनयू मामले में चार्जशीट दाखिल होने पर भी सवाल उठाए। इस चार्जशीट में 7 कश्मीरी छात्रों की भी आरोपी बनाया गया। उन्होंने कहा कि सरकार छात्रों का इस्तेमाल कर राजनीतिक फायदा उठाने का प्रयास कर रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here