महाराष्ट्र में कैबिनेट विस्तार के दूसरे दिन ही बगावत,NCP विधायक ने दिया इस्तीफे

0
29

मुंबई :महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार के बाद बगावत के सुर उठने लगे हैं. सोमवार को हुए कैबिनेट विस्तार में एनसीपी के चार बार के विधायक प्रकाश सोलंके को जगह नहीं मिल सकी. सोलंके ने विधायकी इस्तीफा देने के साथ-साथ राजनीति से भी संन्यास लेने का ऐलान कर दिया है. हालांकि उन्होंने कहा कि मंत्री न बनाए जाने के चलते वे ये फैसला नहीं ले रहे हैं.बीड के मजलगांव सीट से चौथी बार विधायक चुने गए प्रकश सोलंके मंगलवार दोपहर विधानसभा अध्यक्ष से मिलकर अपना इस्तीफा सौंपने वाले हैं। हालांकि, उन्होंने यह भी साफ किया है कि उनके इस्तीफे का मंत्रिमंडल के विस्तार में मंत्री न बनाए जाने से कोई संबंध नहीं है। सोलंके एनसीपी और कांग्रेस की सरकार में मंत्री रह चुके हैं।

सोलंके ने कहा कि मैं तीस साल से राजनीति कर रहा हूं लेकिन आजकल ऐसी परिस्थिति बन गई है, जिसमें हम जैसे लोगों के लिए कोई जगह नहीं है। सोलंके भले ही अपने इस्तीफे को मंत्री न बनाए जाने से जोड़ने से इनकार कर रहे हैं लेकिन जिस तरह से उन्होंने विधायक का पद तक छोड़ने का ऐलान कर दिया है उससे साफ है कि महाविकास अघाड़ी में कैबिनेट विस्तार के साथ ही बगावत के सुर उठने लगे हैं।सरकार बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले शिवसेना सांसद संजय राउत के विधायक भाई सुनील राउत को मंत्री न बनाए जाने से नाराजगी है। हालांकि राउत ने मीडिया से कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। कहा जा रहा है कि इसी कारण संजय राउत शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए।

संजय राउत से जब सुनील को कैबिनेट में जगह नहीं दिए जाने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह तीन दलों की सरकार है और हर दल में योग्य लोग मौजूद हैं। ऐसे में सबको निर्धारित कोटे को स्वीकार करना होता है। उन्होंने कहा कि वह खुश हैं कि उद्धव ठाकरे प्रदेश के सीएम हैं। राउत ने आगे कहा, ‘मैं और मेरा परिवार हमेशा से शिवसेना के साथ है। हम ठाकरे परिवार के प्रति निष्ठा रखते हैं और हमने महाराष्ट्र में सरकार बनाने में अपनी भूमिका निभाई है।’ इतना ही नहीं, मंत्रिमंडल में स्थान न मिलने से पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण के भी नाराज होने की खबर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here