राजस्थान और छत्तीसगढ़ में मंत्रिमंडल का हुवा बंटवारा,देखिये किस को क्या मिला

0
54

नई दिल्ली :राजस्थान में कांग्रेस सरकार के मंत्रियों के विभागों के बंटवारे को लेकर तीन दिन चली खींचतान के बाद यह मामला सुलझ गया है तथा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने महत्वपूर्ण विभाग वित्त तथा गृह अपने पास रखे है। कल देर रात मंत्रियों के विभागों की सूची जारी की गई जिसके अनुसार उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को सार्वजनिक निमार्ण, ग्रामीण विकास पंचायती राज, विज्ञान प्रौद्यागिक और सांख्यिकी विभाग दिये गये है। राज्य के मंत्रियों के विभागों के बंटवारे के दौरान काफी सावधानी बरती गई है. मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने पास वित्त और गृह मंत्रालय समेत 9 मंत्रालय अपने पास रखा जबकि उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को लोक निर्माण, पंचायती राज, ग्रामीण विकास मंत्रालय और विज्ञान-तकनीकी समेत कुल 5 मंत्रालयों का जिम्मा सौंपा गया है.

24 दिसंबर को मंत्रिमंडल विस्तार हुआ था जिसमें 13 कैबिनेट मंत्री और 10 राज्य मंत्रियों ने शपथ ली थी, लेकिन अगले 3 दिन तक नएनवेले मंत्रियों के विभागों का ऐलान नहीं किया जा सका.राजस्थान में नई सरकार के सत्ता में आने के बाद 23 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई थी. लेकिन कहा जा रहा है कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट- दोनों ही अपने-अपने कोटे के मंत्रियों को अच्छे मंत्रालय देने के लिए लॉबिंग कर रहे हैं. इस कारण सहमति बनने में समय लग गया. विभागों के बंटवारे से पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार शाम पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की.

सूत्रों के मुताबिक गहलोत के अलावा पार्टी के राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे और कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल भी राहुल गांधी के आवास 12 तुगलक लेन पहुंचे.बुलाकी दास कल्ला को उर्जा विभाग और भू-जल विभाग समेत 4 विभाग सौंपे गए हैं. जबकि शांति कुमार धारीवाल को संसदीय कार्य मंत्रालय समेत 3 विभाग दिए गए हैं.

वहीं दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ मंत्रिमंडल में भी गुरुवार को विभागों का बंटवारा हो गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामान्य प्रशासन, वित्त, ऊर्जा, खनन, जनसंपर्क, इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग अपने पास रखा। टीएस सिंहदेव को पंचायत और ग्रामीण विकास, लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा योजना आर्थिक और सांख्यिकी, बीस सूत्रीय कार्यक्रम और वाणिज्यिक कर (जीएसटी) सौंपा गया है।

17 दिसंबर को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ टीएस सिंहदेव और ताम्रध्वज साहू ने शपथ ली थी। इसके बाद 25 दिसंबर को 9 विधायकों को शपथ दिलाई गई थी। इनमें से 6 नए चेहरों को मौका दिया गया था। कवासी लखमा, शिव डहरिया, उमेश पटेल, जयसिंह अग्रवाल, गुरु रुद्र कुमार और अनिला भेड़िया को पहली बार मंत्री बनाया गया। इनके अलावा मो. अकबर, प्रेमसाय सिंह टेकाम और रविंद्र चौबे ने भी शपथ ली थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here