मानसून में एक हफ्ते की देरी,गर्मी का क़हर जारी

0
25

नई दिल्ली: मौसम विभाग ने बुधवार को कहा कि मानूसन की शुरुआत में एक हफ्ते की देरी हो सकती है और अब इसके आठ जून तक दस्तक देने की संभावना है। आम तौर पर मानसून एक जून को केरल में पहुंच जाता है और इसके साथ ही आधिकारिक तौर पर चार महीने के बारिश के मौसम का आगाज होता है।भारतीय मौसम विभाग ने गुरुवार को कहा कि छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और तमिलनाडु के अंदरुनी क्षेत्र, पुड्डुचेरी और करायकल में तूफान, धूल भरी आंधी के साथ ही बिजली गिर सकती है। मौसम विभाग ने भविष्यवाणी की है कि उत्तरपूर्वी राज्यों नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा गंगा के तट वाला पश्चिम बंगाल, कर्नाटक के अंदरुनी क्षेत्रों, असम और मेघालय में भारी बारिश होने की संभावना है।
उत्तरी राज्यों मध्यप्रदेश और विदर्भ के बहुत से हिस्सों में गर्म हवा की परिस्थिति बरकरार रहेगी। पश्चिमी राजस्थान के क्षेत्रों में गर्म हवा से राहत नहीं मिलेगी। पूर्वी राजस्थान के कई इलाकों में गर्म हवा की स्थिति बनी रहेगी। मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिणी हरियाणा, दक्षिणी उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ के इलाकों में गर्म हवा चलेगी। 8 जून को केरल में मानसून दस्तक देगा तब जाकर देश में लोगों को गर्मी से राहत मिलेगी. वहीं पूर्वोत्तर भारत में भी 8 जून को ही मानसून की दस्तक होगी.दिल्ली और उसके असपास के इलाकों में आज भी भीषण गर्मी जारी है.

कई जगहों पर बादल छाए हुए हैं. उम्मीद की जा रही है कि देर शाम तक बारिश हो सकती है. दिल्लीवालों को आज तो राहत मिल सकती है, लेकिन यहां पर मानसून इस बार 10 से 15 दिन देर से ही पहुंचेगा.मौसम विभाग के मुताबिक, राजस्थान, मध्य प्रदेश और विदर्भ में अगले तीन-चार दिनों तक जबरदस्त गर्मी रहेगी. कई इलाकों में तो मानसून सात से 15 दिन देर से आएगा.साफ है कि उत्तर भारत के लोगों को अभी दूर-दूर तक गर्मी से राहत मिलने की कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है.प्री मॉनसून बारिश ने भी इस बार निराश किया है. मौसम का हाल बताने वाली निजी संस्था SKYMET की मानें तो इस बार मानसून से पहले होने वाली बारिश 65 सालों में दूसरी बार इतनी कम दर्ज की गई है.

वहीं मौसम विभाग ने यह भी जानकारी दी की इस बार मौससून केरल में अपने तय समय से पांच दिन देरी से दस्तक देगा। केरल में मानसून 1 जून से आ जाता है लेकिन इस बार थोड़ी देरी के साथ बारिश होगी। हालांकि, ‘स्काईमेट’ के वरिष्ठ वैज्ञानिक समर चौधरी ने बताया कि अगले 48 घंटों के भीतर केरल में मानसून पहुंच सकता है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस साल मानसून थोड़ा कमजोर रहेगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्रों में मानसून के पहुंचने की सामान्य तारीख जून के आखिरी हफ्ते में होती है। लेकिन इस बार यह करीब 10-15 दिन की देरी से यहां पहुंचेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here