घुटने पर आया पाकिस्तान ,भारत से भात चीत के लिए भेजा पैगाम

0
16

नई दिल्ली :ऐसे समय में जब जम्मू कश्मीर को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव चरम पर है, इस बीच इस्लामाबाद ने नई दिल्ली को द्विपक्षीय बातचीत की नई पेशकश की है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशीने कहा- “भारत के साथ द्विपक्षीय बातचीत से हमें कोई ऐतराज नहीं है।कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान ने कभी भी भारत के साथ द्विपक्षीय बातचीत का विरोध नहीं किया है।

इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को देश को संबोधित करते हुए कहा था कि यदि दो परमाणु शक्ति संपन्न देशों के बीच युद्ध होता है तो इसका नुकसान पूरी दुनिया को भुगतना पड़ेगा। उन्होंने भारत को धमकी देते हुए कहा था कि अगर पीओके पर किसी भी तरह की सैन्य कार्रवाई की जाती है तो उनकी सेना किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार है।भारत ने पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के खंड दो और तीन को खत्म कर दिया था। साथ ही राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित किया है। तभी से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। हालांकि भारत ने कई बार उससे कहा है कि यह उसका आंतरिक मामला है।
द्विपक्षीय बातचीत के मसले पर नरेंद्र मोदी सरकार का रुख बेहद साफ रहा है। भारत सरकार बार-बार कहती रही है कि पाकिस्तान से बात तभी होगी जब वह कश्‍मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराना बंद कर देगा। बीते दिनों केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि पाकिस्‍तान भारत के खिलाफ अपनी धरती से संचालित आतंकवाद को जब तक खत्म नहीं कर देता त‍ब तक उससे बातचीत करने का कोई कारण नहीं है। राजनाथ ने साफ लफ्जों में यह भी कहा था कि पाकिस्तान से आगे भी जो बातचीत होगी, अब वह पीओके पर होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here