चुनाव से पहले PK ने कैप्टन का छोड़ा साथ

0
22

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को लेकर कांग्रेस ऊहापोह की स्थिति में हैं। पार्टी नेतृत्व इस बारे में सभी से चर्चा कर रहा है। पर पार्टी के नेता और कार्यकर्ता ज्यादा इंतजार नहीं करना चाहते। ज्यादातर पार्टी नेताओं का मानना है कि प्रशांत किशोर को फौरन कांग्रेस में शामिल किया जाना चाहिए। ताकि, उनकी विशेषज्ञता का फायदा मिल सके।पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव बहुत दूर नहीं है। प्रशांत किशोर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ जुड़े हुए हैं। पर पंजाब के साथ उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर ऐसे राज्य हैं, जहां कांग्रेस जीत सकती है। प्रशांत पार्टी के साथ जुड़ते हैं, तो इन सभी राज्यों में जीत की संभावना बढ़ जाएगी।

बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद प्रशांत किशोर ने घोषणा की थी कि वह अब चुनावी रणनीतिकार की भूमिका से मुक्त होंगे. इसके बाद से ही उनके एक बार फिर से सक्रिय राजनीति में कदम रखने की संभावना जताई जा रही है. वह कुछ साल पहले जनता दल (यू) में शामिल हुए थे, हालांकि बाद में उनको अलग होना पड़ा.किशोर ने यह फैसला ऐसे वक्त लिया है जब उनके कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज हैं. उनके इस्तीफे के बाद इन अटकलों को और बल मिला है. पार्टी सूत्रों ने बीते महीने जानकारी थी कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने 22 जुलाई को यह बैठक बुलाई थी और इसका मुख्य एजेंडा पार्टी में शामिल होने की स्थिति में प्रशांत किशोर को दी जाने वाली भूमिका और इससे पार्टी को होने वाले हानि-लाभ पर चर्चा करना था.

बीते दिनों प्रशांत किशोर काफी एक्टिव नजर आए थे. उनकी कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ मुलाकात भी हुई थी. इसके बाद कांग्रेस की एक बैठक हुई, जिसमें राहुल और पीके की मुलाकात का जिक्र किया गया था और प्रशांत किशोर की कांग्रेस में एंट्री की संभावनाओं पर चर्चा की. यह बैठक 22 जुलाई को हुई थी, जिसमें कमलनाथ, मल्लिकार्जुन खड़गे, आनंद शर्मा, अजय माकन, केसी वेणुगोपाल, अंबिका सोनी जैसे बड़े नेता शामिल हुए थे. बैठक में जो निष्कर्ष सामने आया था, उसके मुताबिक पीके का पार्टी में आना फायदेमंद साबित हो सकता है लेकिन उनका रोल तय होना चाहिए. जेडीयू के साथ जिस तरह से पीके का सफर रहा, उसे देखते हुए कांग्रेस अपने यहां उनके रोल को लेकर लकीर खींच सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here