जानलेवा हो सकती है प्लाज्मा थेरेपी

0
33

कोरोना वायरस के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी के इस्तेमाल के प्रति बढ़ते अति उत्साह को लेकर आइसीएमआर ने राज्य सरकार को सावधान किया है। आइसीएमआर के अनुसार बिना सोचे-समझे प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना का इलाज मरीज के लिए घातक हो सकता है। कोरोना के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी कितना कारगर है, इसके सबूत जुटाने के लिए आइसीएमआर ने राष्ट्रीय स्तर पर अध्ययन शुरू किया है और उसके नतीजे आने तक इसके अंधाधुंध प्रयोग से बचने की सलाह दी है।
संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने साफ कहा कि प्लाज्मा थेरेपी का अगर सही तरीके से और गाइडलाइंस के अनुसार उपयोग नहीं करते है तो मरीज की जान को खतरा भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि अभी प्लाज्मा थेरेपी को लेकर सिर्फ ट्रायल चल रहा है और अभी इसको लेकर कोई निष्कर्ष नहीं निकाला गया है। उन्होंने कहा कि प्लाज्मा थेरेपी को लेकर किसी भी तरह का दावा करना गलत है। उन्होंने कहा कि प्लाज्मा थेरेपी को लेकर ICMR
पहले ही अपनी गाइडलाइन जारी कर चुका है।स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कोरोना को लेकर नियमित प्रेस क्रांफ्रेंस में प्लाजाम थेरेपी को लेकर पूरी स्थिति साफ की है। उन्होंने कहा कि प्लाज्मा थेरेपी को लेकर किसी भी प्रकार का दावा करना गलत है। अभी प्लाज्मा थेरेपी सिर्फ रिसर्च और ट्रायल के लिए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here