क्या 15 अप्रैल के बाद से ट्रैन सर्विस होगी शुरू ,जानिये सच

0
126

नई दिल्ली : रेलवे ने कोरोना वायरस के कारण यात्री ट्रेनों को 21 दिन तक स्थगित करने के बाद 15 अप्रैल से अपनी सभी सेवाएं बहाल करने की तैयारी शुरू कर दी है। सूत्रों ने बताया कि रेलवे के सभी सुरक्षा कर्मियों, स्टाफ, गार्ड, टीटीई और अन्य अधिकारियों को 15 अप्रैल से अपने-अपने काम की जगह पर लौटने के लिए तैयार रहने को कहा गया है। ट्रेनों का संचालन सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद ही शुरू होगा।.समाचार एजेंसी पीटीआइ ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि सभी रेलवे सुरक्षाकर्मियों, स्टाफ, गार्ड, टीटीई और अन्य अधिकारियों से कहा गया है कि वे 15 अप्रैल से अपनी ड्यूटी ज्वॉइन करने के लिए तैयार हो जाएं।हालांकि रेलवे, ट्रेनों का परिचालन सरकार से हरी झंडी के बाद ही शुरू करेगी, जिन्होंने इस मुद्दे पर मंत्रियों के समूह (GoM) का गठन किया है।

रेलवे की आधिकारिक वेबसाइट http://www.indianrailways.gov.in के मुताबिक लॉकडाउन के बाद रेल सेवाओं से दोबारा शुरू होने के बारे में रेलवे ने कोई योजना जारी नहीं की है। सभी संबंधितों को इस बारे में किसी भी आगे के फैसले के बारे में विधिवत सूचित किया जाएगा।

लॉकडाउन की घोषणा के बाद से अलग-अलग राज्यों में कई लोग फंसे हुए हैं और वह अपने घर नहीं पहुंच सके हैं। लॉकडाउन के बाद क्या यात्री रेल सेवाएं फिर से बहाल हो जाएंगी? रेल में सफर करने की प्लानिंग कर रहे लोगों के मन में यह सवाल जरूर उठ रहा है। यात्रियों के मन में यह उत्सुकता इसलिए भी और बढ़ती जा रही है क्योंकि 14 अप्रैल यानि लॉकडाउन खत्म होने की तारीख नजदीक आ रही है।

Certain media reports have come on a post lockdown "restoration plan" with train details,frequency etc. It is to clarify…

Posted by Ministry of Railways, Government of India on Saturday, April 4, 2020

 

लॉकडाउन खत्म तो नहीं हुआ है लेकिन रेल मंत्रालय इसके बाद की प्लानिंग में जुट गया है। Railway बोर्ड लॉकडाउन के बाद ट्रेनों के परिचालन के लिए योजना बना रहा है। रेलवे बोर्ड को सरकार के निर्देशों का इंतजार है, लेकिन इससे पहले ही जोनल रेलवेज को 14 अप्रैल के बाद रेल सेवाओं की चरणबद्ध बहाली के लिए एक योजना तैयार करने को कहा गया है। इसका रोडमैप रेल मंत्रालय के समक्ष जमा करने के लिए कहा गया है।Railway ने जिन जोन को इसमें शामिल किया गया उन्होंने द इंडिया एक्सप्रेस से बातचीत में इस बात की पुष्टि की है कि उन्हें इस संबंध में मंत्रालय से निर्देश मिले हैं। आने वाले दिनों रेलवे जोन रेल मंत्रालय को इस बारे में सूचित कर सकते हैं कि कोरोना संकट के बीच 25 फीसदी से लेकर 50 फीसदी ट्रेनों को चालाया जा सकता है या नहीं। हालांकि यह सब सरकार की लॉकडाउन रणनीति पर निर्भर करेगा।

इसके अलावा, कुछ जोनल अधिकारियों ने संकेत दिया कि अगर कुछ ट्रेनों की सेवाएं शुरू की जाती हैं, तो वे ट्रेनें शायद पूरी तरह से भर जाएंगी हालांकि यह इस पर निर्भर करेगा कि ये ट्रेनें किस रूट पर चलाई जाएंगी। हम सरकार के निर्णय के लिए तैयार हैं। वहीं रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा हमें दोनों परिस्थितियों के लिए एक रणनीति की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here