राम मंदिर:राज ठाकरे ने कार्टून के साथ की एंट्री,गुस्से में नज़र आए राम

0
25

नई दिल्ली :शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अयोध्या पहुंचकर भाजपा व पीएम नरेंद्र मोदी को यूं ही नहीं ललकारा है। इसके सियासी सबब हैं। दरअसल, उद्धव ठाकरे राम मंदिर के बहाने उत्तर भारत में शिवसेना की जड़े जमाना चाहते हैं।इससे शिवसेना को उसे महाराष्ट्र में उत्तर भारत विरोधी होने के आरोपों से भी राहत मिलेगी। राम मंदिर का चैपिंयन बनकर वह यूपी, बिहार समेत हिंदी भाषी राज्यों में अपना जनाधार बढ़ाएगी। इसी को संगठन में तब्दील करेगी। शिवसेना हिंदुत्व को लेकर भाजपा से बड़ी लाइन खींचना चाहती है। राम मंदिर मुद्दे पर भाजपा की घेराबंदी उसके लिए सबसे मुफीद मौका है।वहीँ दूसरी तरफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे जो एक कार्टूनिस्ट भी हैं ने राम मंदिर के निर्माण पर जोर दे रहे हिंदू संगठनों और बीजेपी पर निशाना साधा है। ठाकरे ने अपने कार्टून में भगवान राम को अपने भाई लक्ष्मण के साथ चट्टान पर बैठे हुए दिखाया है और उनके सामने कुछ लोग नारे लगाते दिख रहे हैं। इस कार्टून के जरिए राज ठाकरे ने अपने चचेरे भाई उद्धव ठाकरे पर भी निशाना साधा है। एमएनएस ने ‘हे राम’ के नाम से एक कार्टून जारी किया है जिसमें उद्धव ठाकरे, बीजेपी और वीएचपी को ‘चलो अयोध्या’ का नारा दिखाते हुए दिखाया गया है. जबकि भगवान राम गुस्से में यह बताते हुए दिख रहे हैं कि आप सभी ने देशों को एक गहरे गड्ढे में धकेल दिया है. लोगों ने राम राज्य की मांग की थी ना कि राम मंदिर की.

आपको बता दें कि राम मंदिर निर्माण को लेकर वीएचपी और शिवसेना के सैकड़ों कार्यकर्ता अयोध्या में ढेरा डाले हुए हैं. राम मंदिर के निर्माण को लेकर सरकार पर दबाव बनाने के लिए वीएचपी की अगुवाई में धर्मसभा राम की नगरी में हो रही है. धर्मसभा में शामिल होने के लिए शनिवार से ही साधु-संतों और रामभक्तों के पहुंचने का सिलसिला जारी है.वीएचपी, आरएसएस और बजरंग दल के हजारों कार्यकर्ता देशभर से बसों और ट्रेनों के जरिए धर्मसभा में हिस्सा लेने के लिए अयोध्या के कारसेवकपुरम में बड़े भक्तमाल की बगिया में इकट्ठा हैं.वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी दो दिन के दौरे पर अयोध्या पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने साधु-संतों से मुलाकात की और राम की धरती से मोदी सरकार पर हमला बोला.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here