Slowdown की चपेट में आया Real Estate,आफत पर आफत

0
4

नई दिल्ली :कमजोर मांग से देश के नौ प्रमुख शहरों में जुलाई–सितंबर तिमाही में मकानों की बिक्री 9.5 प्रतिशत गिरकर 52,855 इकाई रही। रीयल एस्टेट से जुड़े ऑनलाइन मंच प्रॉपइक्विटी ने अपनी रपट में यह बात कही। आर्थिक नरमी और धन उपलब्धता संकट की वजह से खरीदारों की धारणा प्रभावित हुई।यह इस तरह की चौथी रपट है , जिसमें 2019 की तीसरी तिमाही में मकान बिक्री में गिरावट दिखाई गई है। इससे पहले,प्रॉपटाइगर और एनारॉक ने जुलाई , सितंबर तिमाही के दौरान मकानों की बिक्री में क्रमश:25 प्रतिशत और 18 प्रतिशत की गिरावट की जानकारी दी थी। वहीं,जेएलएल इंडिया ने एक प्रतिशत गिरावट की बात कही थी।

कैलेंडर वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में यह चौथी रिपोर्ट है जो हाउसिंग सेल्स में गिरावट का इशारा कर रही है. हाउसिंग सेगमेंट की मुख्य ब्रोकरेज फर्म प्रोपटाइगर और एनरॉक इससे पहले हाउसिंग सेल्स में जुलाई-सितंबर तिमाही में क्रमश: 25 फीसदी और 18 फीसदी की गिरावट की बात कह चुकी हैं.रिपोर्ट के अनुसार, जुलाई-सितंबर 2019 के मध्य 52,855 यूनिट्स की बिक्री हुई है जो एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले 9.5 फीसदी कम है. पिछले साल इस अवधि में 58,461 यूनिट्स की बिक्री हुई थी.
रिपोर्ट के अनुसार, हाउसिंग सेल्स के मामले में चेन्नई में सबसे ज्यादा 25 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही में यहां 3060 यूनिट्स की बिक्री हुई है जबकि पिछले साल समान अवधि में 4080 यूनिट्स की बिक्री हुई थी. मुंबई में 22 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है और इस अवधि में 5063 यूनिट्स की बिक्री हुई है. इसके बाद हैदराबाद का नंबर आता है जहां 16 फीसदी की गिरावट के साथ 4257 यूनिट्स की बिक्री हुई है. कोलकाता में 12 फीसदी की गिरावट के साथ 3069 यूनिट्स की बिक्री हुई है जबकि नोएडा में 11 फीसदी की गिरावट के साथ 990 यूनिट्स की बिक्री हुई है. केवल गुरुग्राम और पुणे में हाउसिंग सेल्स में वृद्धि दर्ज की गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here