मुस्लिम नाम वाले गुजरात और महाराष्ट्र के 3 बड़े शहरों के नाम बदलने की तैयारी पूरी !

0
39

नई दिल्ली :यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने के मंगलवार को फैजाबाद का नाम अयोध्या करने का फैसला किया है। इसके बाद कई शहरों और सड़कों के नाम बदलने की मांग भी उठने लगी है। इस कड़ी में अब गुजरात के अहमदाबाद का नाम भी जुड़ सकता है।गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन भाई पटेल ने कहा है कि पिछले काफी समय से अहमदाबाद का नाम बदलने की मांग की जा रही है। अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की मांग हो रही है। उन्होंने कहा कि कानूनी कार्रवाई को पूरा करने में हमें लोगों का सहयोग मिला तो हम नाम बदलने को तैयार हैं।याद रहे की सन 1411 में सुलतान अहमद शाह ने कर्णावती के करीब एक नए शहर की आधारशिला रखी और पास ही रहने वाले अहमद नाम के चार शंतों के नाम पर इस शहर का नाम अहमदाबाद रखा था।

वहीँ दूसरी तरफ अब इस कड़ी में एक और नाम जुड़ने वाला है।यानी ने महाराष्ट्र की दो जगहों के नाम बदलने की तैयारी कर ली है।शिवसेना नेता मनीषा कायंदे ने कहा कि औरंगाबाद और उस्मानाबाद को संभाजी नगर और धारशिव में बदलने की शिवसेना की मांग नई नहीं है। मनीषा ने कहा कि हमारी यह मांग लंबे समय से चली आ रही है जिसे कई बार उठाया जा चुका है।कांग्रेस और एनसीपी पर हमला करते हुए कायंदे ने कहा कि मुस्लिम मतदाताओं को खुश करने के लिए दोनों पार्टीयां औरंगाबाद और उस्मानाबाद के नाम बदलने का विरोध कर रही हैं। इससे पहले शिवसेना सांसद संदय राउत ने भी नाम बदलने की राजनीति पर ट्वीट किया था कि योगी ने फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया. इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया.

अब सीएम फडणवीस को औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर और उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव कर देना चाहिए.अब देखना यह होगा की भाजपा की सरकार वाले राज्यों में कितने शहरों के नाम बदले जाते हैं और कौन राज्य इस में बाजी मरता है। लेकिन इस बीच एक बड़ा सवाल यह है की भाजपा को आखिर मुस्लिम नाम से ही दुश्मनी क्यों हैं और क्यों वह मुस्लिम नाम पर बसे शहरों का नाम बदल रही है। क्या वह सड़क और नगर उनकी नज़र में नहीं है जो अंग्रेज़ों और अन्य लोगों के नाम पर है ???

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here