2019 का चुनाव नहीं लड़ेंगी सुषमा स्वराज,कारण है ख़ास लेकिन नहीं कर रही हैं आम

0
29

नई दिल्ली :विदेश मंत्री और भाजपा की कद्दावर नेता, एमपी के विदिशा से सांसद सुषमा स्वराज ने कहा है कि वह अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहतीं. लेकिन पार्टी फैसला करती है तो वह इस पर विचार करेंगी. इसके बाद सवाल उठने लगे हैं कि वह अपनी बीमारी की वजह से ऐसा कह रही हैं या कोई और पीड़ा है.सुषमा मध्यप्रदेश के विदिशा से लोकसभा सदस्य हैं। वे देश की सबसे युवा विधायक और किसी राज्य की सबसे युवा कैबिनेट मंत्री रह चुकी हैं। सुषमा 2009 और 2014 में विदिशा से लोकसभा चुनाव जीतीं। 2014 में उन्होंने कांग्रेस के लक्ष्मण सिंह को चार लाख से ज्यादा वोट से हराया था। सुषमा ने सबसे पहला चुनाव 1977 में लड़ा। तब वे 25 साल की थीं। वे हरियाणा की अंबाला सीट से चुनाव जीतकर देश की सबसे युवा विधायक बनीं। उन्हें हरियाणा की देवीलाल सरकार में मंत्री भी बनाया गया। इस तरह वे किसी राज्य की सबसे युवा मंत्री रहीं।वहीं सुषमा स्वराज के 2019 के चुनाव न लड़ने के फैसले पर कांग्रेसी नेता शशि थरूर ने निराशा जाहिर करते हुए कहा कि संसद में विदेश मंत्री के रूप में मैंने उन्हें हमेशा उदार पाया है.सिर्फ चुनाव नहीं लड़ेंगी, राजनीति में बनी रहेंगी।लेखक स्वप्नदास को जवाब देते हुए सुषमा ने साफ किया कि वे सिर्फ 2019 का चुनाव न लड़ने का ऐलान कर रही हैं. राजनीति में वे बनी रहेंगी.स्वराज कौशल ने ट्वीट में लिखा, ‘‘आपके इस फैसले के लिए धन्यवाद। मुझे वह वक्त याद आ गया, जब मिल्खा सिंह ने दौड़ना बंद कर दिया था। आपकी मैराथन 1977 में शुरू हुई थी, जिसे 41 साल हो चुके हैं। आपने 1977 से अब तक सभी चुनावों में हिस्सा लिया। हालांकि, दो बार 1991 और 2004 में पार्टी ने आपको चुनाव लड़ने की इजाजत नहीं दी थी। आपने लोकसभा के चार कार्यकाल, राज्यसभा के तीन कार्यकाल पूरे किए। इसके अलावा तीन बार विधानसभा में भी चुनी गईं।जब आप 25 साल की थीं, तब से चुनाव लड़ रही हैं। मैडम, मैं पिछले 46 साल से आपके पीछे भाग रहा हूं। अब मैं 19 साल का नहीं हूं। अब मैं थक गया हूं। आपके इस फैसले के लिए धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here