कश्मीर मामले पर UN ने पाकिस्तान की मांग को ठुकराया

0
6

नई दिल्ली :पाकिस्तान की ओर से लगातार जम्मू-कश्मीर का मसला अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाया जा रहा है और हर तरफ से उसके हाथ में निराशा आई है. अब संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस की ओर से भी पाकिस्तान को निराशा हाथ लगी है. गुटेरेस का कहना है कि जम्मू-कश्मीर का मसला भारत-पाकिस्तान आपस में बातचीत कर सुलझाएं. संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने इस मसले पर मध्यस्थता करने से इनकार कर दिया है और जवाब में कहा गया है कि भारत अगर कहेगा तो विचार किया जाएगा.संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने साफ तौर पर कहा है कि इस मुद्दे पर हमारे स्टैंड में कोई बदलाव नहीं होगा। कश्मीर मुद्दे को दोनों देश आपसी सहमति और शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाएं।

दरअसल, कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मालेहा लोधी ने सोमवार को यूएन महासचिव एंटोनियो गुटेरेस से मुलाकात कर मध्यस्थता की अपील की थी। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव की तरफ से मुख्य प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि कश्मीर पर मध्यस्थता पर हमारी स्थिति पहले की तरह ही है। यूएन महासचिव ने भारत और पाकिस्तान को बातचीत के माध्यम से इस मुद्दे से निपटने की अपील की है।यूएन के सेक्रेटरी जनरल के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा, ‘मध्यस्थता पर हमारी स्थिति पूर्ववत ही है, उसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है। महासचिव ने दोनों देशों की सरकार से संपर्क किया है। जी-7 की बैठक में भारत के प्रधानमंत्री से मुलाकात कर इस पर चर्चा की और पाकिस्तान के विदेश मंत्री से इस पर बात हुई है।’ बता दें कि कई अन्य देशों की ही तरह यूएन ने भी कश्मीर मुद्दे को द्विपक्षीय बताया है। भारत हमेशा से ही मध्यस्थता की संभावना से इनकार करता रहा है।
संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीर पर जारी तनाव पर स्पष्ट कहा कि दोनों देशों को शांतिपूर्ण तरीके से इस मुद्दे का समाधान ढूंढ़ना चाहिए। दोनों ही देशों को बातचीत के जरिए कश्मीर का हल ढूंढ़ना होगा। बता दें कि भारत का स्पष्ट पक्ष है कि कश्मीर का मुद्दा द्विपक्षीय है और इसमें किसी प्रकार की मध्यस्थता या किसी तीसरे पक्ष का दखल भारत को स्वीकार नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here